NewsHub के साथ गर्मागर्म विषयों पर ताज़ातरीन ख़बरों के अपडेट प्राप्त करें। अभी इन्स्टाल करें।

अगस्ता घोटाले का बिलासपुर कनेक्शन

५ दिसंबर, २०१८ ९:०५ पूर्वाह्न
4 0

बिलासपुर | संवाददाता: अगस्ता वेस्टलैंड हेलिकॉप्टर घोटाले का छत्तीसगढ़ के बिलासपुर से भी कनेक्शन रहा है. इस सौदे में रक्षा दलाल अभिषेक वर्मा का नाम भी सीबीआई की लिस्ट में है.

बिलासपुर के रहने वाले हिंदी के जाने-माने कवि और सांसद श्रीकांत वर्मा के बेटे अभिषेक वर्मा को पहले भी कई रक्षा दलाली के मामलों में गिरफ्तार किया गया है. इंदिरा गांधी के अत्यंत विश्वसनीय सहयोगियों में शामिल श्रीकांत वर्मा की पत्नी वीणा वर्मा भी राज्यसभा की सांसद थीं.

मगध जैसी कविताओं के लिये दुनिया भर में चर्चित श्रीकांत वर्मा की एक आदमकद प्रतिमा बिलासपुर के नये सर्किट हाउस के पास लगी हुई है. 18 नवंबर 1931 को बिलासपुर में जन्में श्रीकांत वर्मा 1976 से 1982 तक सांसद रहे. कांग्रेस का अब तक का सबसे चर्चित नारा ‘ग़रीबी हटाओ’ वर्मा ने ही दिया था. दिनमान के विशेष संवाददाता रहे श्रीकांत वर्मा का 1986 में न्यूयॉर्क में कैंसर से निधन हुआ था.

लेकिन इतनी ख्याति के कवि और राजनेता श्रीकांत वर्मा के बेटे का राजनीति या रचनात्मकता से कभी कोई रिश्ता नहीं रहा. 23 अगस्त 1968 को पैदा हुये अभिषेक वर्मा का नाम हमेशा से अलग-अलग किस्म के रक्षा घोटाले में ही आता रहा है. उनकी दूसरी पत्नी एंका भी रक्षा सौदे में दलाली के लिये चर्चित रही हैं.

अगस्ता वेस्टलैंड हेलीकॉप्टर सौदे में कथित बिचौलिए क्रिश्चियन मिशेल जेम्स को भारत लाये जाने के बाद एक बार फिर से अभिषेक वर्मा के नाम की चर्चा शुरु हो गई है. क्रिश्चियन मिशेल जेम्स के अलावा फिनमेकैनिका के पूर्व सीईओ ग्यूसेप ओर्सी, अगस्ता वेस्टलैंड के पूर्व सीईओ ब्रूनो स्पैगनोलिनी, तीन बिचौलिये कार्लो गरोसा, क्रिश्टियान माइकल, गुइदो हाश्के के अलावा एसपी त्यागी और अभिषेक वर्मा पर सबकी नज़रें टिकी हुई हैं.

अभिषेक के साथ उनकी पत्नी एंका मारिया नेइक्सू की भी इस मामले में भूमिका संदिग्ध मानी जा रही है.

रक्षा दलाल अभिषेक वर्मा के अमरीकी दोस्त एडमंड्स एलेन ने पिछले साल सीबीआइ समेत कई जांच एजेंसियों को एक पत्र भेजा था. इसके साथ उपलब्ध कराये गये दस्तावेज़ों में एलेन ने आरोप लगाये थे कि अगस्ता वेस्टलैंड के घोटाले में अभिषेक के भी हाथ हैं.

एडमंड्स एलेन के दस्तावेज़ों को ही आधार बना कर सीबीआइ ने अभिषेक वर्मा को गिरफ्तार कर तीन मामलों में उनके खिलाफ आरोप पत्र दायर किया था.

इससे पहले अभिषेक वर्मा पर स्विटजरलैंड की कंपनी रेन मेटाल से आर्म्स डील में पांच लाख 30 हजार डॉलर की दलाली लेने के आरोप में केस दर्ज किया गया था.

अमरीकी कंपनी सिग सॉर के लिए भी रिश्वतखोरी के मामले में अभिषेक और उनकी पत्नी का नाम सामने आया था.

स्रोत: cgkhabar.com

सामाजिक नेटवर्क में शेयर:

टिप्पणियां - 0