NewsHub के साथ गर्मागर्म विषयों पर ताज़ातरीन ख़बरों के अपडेट प्राप्त करें। अभी इन्स्टाल करें।

अलवर: पहलू खान की मौत के 7 महीने बाद मुस्लिम युवक की हत्‍या, गोरक्षकों पर लगे आरोप की हो रही जांच

१२ नवंबर, २०१७ २:१८ अपराह्न
32 2

अलवर की मेव पंचायत प्रमुख शेर मोहम्‍मद ने आरोप लगाया कि गो-तस्‍करों ने हत्‍या की है और उसकी लाश रेलवे ट्रैक के किनारे फेंक दी ताकि यह एक हादसा लगे।

अलवर की मेव पंचायत प्रमुख शेर मोहम्‍मद ने आरोप लगाया कि गो-तस्‍करों ने उम्‍मर की हत्‍या की है और उसकी लाश रेलवे ट्रैक के किनारे फेंक दी ताकि यह एक हादसा लगे। उम्‍मर के रिश्‍तेदारों के अनुसार, हमले के समय उसके साथ दो अन्‍य लोग थे। भरतपुर की पहाड़ी पंचायत समिति के घाटमिका गांव के सरपंच शौकत ने कहा, ”हमले के वक्‍त उम्‍मर के साथ ताहिर और जावेद थे। तीनों हमारे ही गांव के हैं।”

उम्‍मर के चाचा इलयास ने द इंडियन एक्‍सप्रेस को बताया क‍ि ”केवल जावेद ही ऐसा था जो भाग पाया। उसने मुझे बताया कि उन पर बंदूकधारियों ने हमला किय था। उसने कहा कि वह बड़ी मुश्किल से भाग पाया और नहीं जानता कि बाकी दोनों के साथ क्‍या हुआ।”

स्रोत: jansatta.com

सामाजिक नेटवर्क में शेयर:

टिप्पणियां - 2
N Nadeem Ansari

१२ नवंबर, २०१७ २:२० अपराह्न

The only thing modi has achieved is killing of human in cow protection...I advice Muslim should stay away from this animal

M manish agrawal

१२ नवंबर, २०१७ २:१८ अपराह्न

हिन्दोस्तान में फ़िरक़ापरस्ती अपने शबाब पर है ! आये दिन मुसलमानों को बेरहमी से कत्ल किया जा रहा है ! कभी पहलू खान , कभी अख़लाक़ , कभी जुन्नैद और अब ये उमर खान ! कभी मुसलमानो की अज़ान को शोरगुल बताकर, उसकी मुमानियत की बात की जाती है तो कभी मदरसों की वीडियोग्राफी करवाकर, उनकी वतनपरस्ती पर सवाल खड़े किये जाते हैं और पूरी मुस्लिम कौम को ज़लील किया जाता है ! कभी ताजमहल को तेजोमहालय शिवमंदिर बताकर, वहां शिवचालीसा पढ़ा जाता है ! कभी धमकाने वाले अंदाज़ में बयान दिए जाते हैं की राममंदिर की तामीर जल्दी ही कर ली जायेगी जबकि बाबरी मस्जिद का matter हिन्दोस्तान की अदालत-ए-उज़्मा में लंबित है ! लेकिन अपनी इस बदहाली के लिए मुसलमान खुद जिम्मेदार हैं ! आज़ादी के बाद से ही कांग्रेस, मुसलमानों की मुहाफ़िज़ हुआ करती थी लेकिन अपने क्षुद्र स्वार्थों के चलते, पिछले कुछ अरसे से मुसलमानों ने कांग्रेस के वजाय, मुख्तलिफ सूबों में मुख्तलिफ सूबाई सियासी पार्टियों को वोट देना शुरू कर दिया ! नतीज़तन कांग्रेस की सीटेँ कम हुईं और मुसलमान बेअासरा हो गए !