NewsHub के साथ गर्मागर्म विषयों पर ताज़ातरीन ख़बरों के अपडेट प्राप्त करें। अभी इन्स्टाल करें।

कांग्रेस अयाेध्या में राम मंदिर चाहती है या नहीं अपना रुख स्पष्ट करे: अमित शाह

५ दिसंबर, २०१७ ४:३४ अपराह्न
2 0
कांग्रेस अयाेध्या में राम मंदिर चाहती है या नहीं अपना रुख स्पष्ट करे: अमित शाह

अहमदाबाद. अयाेध्या राम मंदिर मामले काे लेकर भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने बड़ा बयान दिया है. कांग्रेस पर निशाना साधते हुए शाह ने कहा है कि कांग्रेस राम मंदिर मामले में अपना रुख स्पष्ट करे कि वह अयाेध्या में राम मंदिर चाहती है या नहीं.

शाह ने कहा कि गुजरात में इस समय विधानसभा के चुनाव चल रहे हैं. एक तरफ राहुल गांधी मंदिर-मंदिर जाकर दर्शन कर रहे हैं वहीं दूसरी तरफ कबिल सिब्बल काेर्ट से अयाेध्या मंदिर पर राेक लगाने की बात कह रहे हैं. कांग्रेस काे अपने इस दाेहरे रवैए काे जनता के सामने स्पष्ट करना चाहिए कि वह अयाेध्या में मंदिर चाहती है कि नहीं.

इस दाैरान उन्हाेंने सुप्रीम काेर्ट में कपिल सिब्बल द्वारा पेश किए गए दलील पर भी निशाना साधा. शाह ने कहा कि सुनवाई के दाैरान सिब्बल की दलील आश्चर्यजनक है. क्या कांग्रेस सिब्बल की दलील पर सहमत है.

गाैरतलब है कि मंगलवार काे राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद काे लेकर सुप्रीम काेर्ट में सुनवाई हुई. सुनवाई के दौरान सुन्नी वक्फ बोर्ड के वकील कपिल सिब्बल ने मामले की सुनवाई 2019 तक टालने की बात कही.

कपिल सिब्बल ने कहा कि यह मामला सियासी हो चुका है, राम मंदिर एनडीए के घोषणा पत्र का हिस्सा है, इसलिए 2019 के आम चुनाव के बाद ही 5 या 7 जजों बेंच द्वारा इसकी सुनवाई होनी चाहिए. कपिल सिब्बल ने सुप्रीम कोर्ट से कहा कि जब भी मामले की सुनवाई होगी, कोर्ट के बाहर भी इसका गंभीर प्रभाव होगा. कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए 15 जुलाई 2019 के बाद इस मामले की सुनवाई करें.

सिब्बल ने कहा कि रिकॉर्ड में दस्तावेज अधूरे हैं. कपिल सिब्बल और राजीव धवन ने इसको लेकर आपत्ति जताते हुए सुनवाई का बहिष्कार करने की बात कही है.सुप्रीम कोर्ट अब राम जन्म भूमि-बाबरी मस्जिद प्रकरण में मालिकाना हक के विवाद में दायर दीवानी अपीलों पर अगले साल 8 फरवरी को सुनवाई करेगा. न्यायलय ने इन अपील में एडवोकेट्स आन रिकार्ड को निर्देश दिया कि वे एक साथ बैठकर यह सुनिश्चत करें कि सारे दस्तावेज दाखिल हों और उन पर संख्या भी लिखी हो.

स्रोत: palpalindia.com

सामाजिक नेटवर्क में शेयर:

टिप्पणियां - 0