NewsHub के साथ गर्मागर्म विषयों पर ताज़ातरीन ख़बरों के अपडेट प्राप्त करें। अभी इन्स्टाल करें।

कांग्रेस-जेडी(एस) के सामने विधायकों को एकजुट रखने की चुनौती, होटल व रिजॉर्टस में छिपाया

१७ मई, २०१८ ८:२६ अपराह्न
4 0
कांग्रेस-जेडी(एस) के सामने विधायकों को एकजुट रखने की चुनौती, होटल व रिजॉर्टस में छिपाया

बेंगलुरु. कांग्रेस और जेडी(एस) के सामने अपने विधायकों को एकजुट रखने की चुनौती है. बीएस येदियुरप्पा ने गुरुवार को कर्नाटक के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली. उन्हें 15 दिन के अंदर बहुमत साबित करना है. कांग्रेस और जेडी(एस) के नेताओं ने बीजेपी पर विधायकों की 'हॉर्स ट्रेडिंग' का आरोप लगाया है. हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि उनके सभी विधायक एकजुट हैं और बीजेपी की पेशकश का किसी पर कोई असर नहीं होगा. राज्यपाल वाजुभाई वाला द्वारा बीजेपी को सरकार बनाने के लिए पहले आमंत्रण देने के मामले पर शुक्रवार सुबह सुप्रीम कोर्ट सुनवाई करेगा.

जेडी(एस) नेता एचडी कुमारास्वामी ने कहा कि हम कहां जा रहे हैं यह तय नहीं है. हम देर रात तय करेंगे कि आगे क्या करना है. हमारे पास कई विकल्प हैं. उनमें से एक राष्ट्रपति भवन के सामने प्रदर्शन करना भी है. कांग्रेस नेता रामालिंगा रेड्डी ने कहा कि जैसे ही ईगलटन रिसॉर्ट के बाहर पुलिस हटाई गई बीजेपी नेता अंदर आ गए. उन्होंने विधायकों को पैसे की पेशकश की. लगातार फोन से संपर्क कर रहे हैं. रामालिंगा ने कहा कि हम आज शिफ्टिंग कर रहे हैं. अभी जगह तय नहीं है. जेडी(एस) विधायक हमारे साथ नहीं आएंगे.

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा कि सभी विधायक बेंगलुरु में हैं. हमें सुप्रीम कोर्ट पर पूरा भरोसा है. वो उस गलती को नहीं दोहराएंगे जो राज्यपाल ने की है. आजाद ने कहा कि बीजेपी एक खेल के लिए दो अलग-अलग नियम नहीं बना सकती. केंद्र सरकार और उनके राज्यपाल जनता के सामने बेनकाब हो चुके हैं. यह केंद्र की जिम्मेदारी है कि वो संविधान और लोकतंत्र की रक्षा करें लेकिन दुर्भाग्य से वही इसे तोड़ रहे हैं.

यह भी पढ़ें: 2019 के चुनावों से पहले सियासी दलों ने बताई अपनी-अपनी रणनीति

स्रोत: palpalindia.com

सामाजिक नेटवर्क में शेयर:

टिप्पणियां - 0