NewsHub के साथ गर्मागर्म विषयों पर ताज़ातरीन ख़बरों के अपडेट प्राप्त करें। अभी इन्स्टाल करें।

गोरखालैंड अांदोलन से दिवालिया हुए होटल व चाय व्यवसाय

१४ सितंबर, २०१७ ७:२३ पूर्वाह्न
2 0

Kolkalt, 14 September : गोरखालैंड अलग राज्य बनाने को लेकर चल रहे अांदोलन के कारण वहां का होटल व चाय व्यवसाय दिवालिया हो गया है. पुरा इलाका 85 दिनों से बंद है. इससे 1000 करोड़ से अधिक रुपये का नुकसान वहां के कारोबारियों पर प़ड़ा है. हड़ताल, बंदी के दौरान हुए हिंसा से ब्रांड डार्जिलिंग पर तो असर पड़ा ही है. होटल व्यवसाय पुरी तरह चौपट हो गया है. चाय उद्योग से जुड़े लोगों का कहना है कि पिछले 100 साल में एेसी स्थिति कभी नहीं अायी थी. जो नुकसान हुअा है, उसे पाटने में तीन से चार साल का वक्त लग जायेगा.

मॉनसून के मौसम में दार्जिलिंग में चाय पत्तियों की नीलामी होती है. बंद व हड़ताल के कारण यह नहीं हो पाया. दार्जिलिंग टी एसोसिएशन के मुताबिक इस साल वहां 87 गार्डेन में 17600 हेक्टेयर भूमि पर चाय के पौधे लगाए गये हैं. यहां 84.50 लाख किलो चाय पैदा होती है. नीलामी प्रक्रिया पुरी नहीं हो पा रही है.

गोरखालैंड अांदोलन को लेकर दार्जिलिंग में हो रही हिंसा व बंद के कारण वहां काम करने वाले करीब 90 हजार चाय मजदूर बेकार हो गए हैं. इनमें 55 हजार के करीब परमानेंट मजदूर हैं, जबकि 35 हजार अस्थायी. परमानेंट मजदूरों को वेतन देने में दिक्कत होने लगी है. सबसे बुरी स्थिति अस्थायी मजदूरों की है. उनके सामने परिवार की रोजी-रोटी की समस्या उत्पन्न हो गयी है.

स्रोत: newswing.com

सामाजिक नेटवर्क में शेयर:

टिप्पणियां - 0