NewsHub के साथ गर्मागर्म विषयों पर ताज़ातरीन ख़बरों के अपडेट प्राप्त करें। अभी इन्स्टाल करें।

झारखंड: कुल वोटिंग 65.15% के पार, अब 20 अप्रैल का इंतजार

१७ अप्रैल, २०१८ ४:४३ अपराह्न
14 0
झारखंड: कुल वोटिंग 65.15% के पार, अब 20 अप्रैल का इंतजार

रांची. झारखंड के 38 नगर निकायों में सोमवार को शांतिपूर्ण मतदान संपन्न हो गया. मतगणना 20 अप्रैल को होगी. इस बार कुल 65.15 प्रतिशत वोटिंग हुई. पिछली बार 2013 (63.17 फीसदी) की तुलना में वोटिंग प्रतिशत में 1.98 फीसदी का इजाफा हुआ है. मतदान के दौरान कई जगहों पर हो-हंगामा और हल्की झड़प की सूचना है. इवीएम खराब होने की घटना के बाद मतदानकर्मियों और मतदाताओं के बीच नोक-झोंक भी हुई. कई जगहों पर पुलिस को हल्का बल प्रयोग भी करना पड़ा. हालांकि कहीं कोई बड़ी घटना नहीं हुई. शहर से कस्बे तक मतदाता बेखौफ होकर नगर सरकार चुनने निकले.

रांची में इस बार परिसीमन के बाद वार्डों के नये सिरे से बंटवारे के कारण कई मतदाता वोट देने से वंचित हो गये. मतदाताओं के बूथ बदल जाने से उन्हें काफी परेशानी हुई. कुछ मामलों में एक ही परिवार के अलग-अलग सदस्यों को विभिन्न बूथों पर वोट के लिए जाना पड़ा. नगर विकास मंत्री सीपी सिंह, कार्डिनल, हेमंत सोरेन सहित कई लोगों को मतदान केंद्र बदल जाने से परेशानी का सामना करना पड़ा. राज्य के कई इलाकों में वोटरों को बूथ बदल जाने से परेशानी होने की सूचना मिली है.

कपाली में उपाध्यक्ष पद का चुनाव रद्द कर दिया गया है. यहां इवीएम पर उपाध्यक्ष पद के लिए झामुमो उम्मीदवार का चुनाव चिह्न अधूरा अंकित था. मेदिनीनगर, हजारीबाग और गिरिडीह नगर निगम के एक-दो बूथ पर भी हंगामा हुआ. हजारीबाग से फर्जी मतदाता को पकड़ा गया. वहीं, गिरिडीह में पुलिस ने रजगढ़िया धर्मशाला स्थित बूथ में हंगामा कर रहे लोगों को खदेड़ा. चतरा, गोड्डा, दुमका, गुमला, कपाली और चाईबासा नगर परिषद के चुनाव में भी एक-दो बूथों पर हंगामा हुआ. हालांकि पुलिस ने इसे समय इस पर काबू पा लिया. चाईबासा से एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया गया है.

राज्य निर्वाचन आयुक्त एनएन पांडेय ने बताया, चुनाव के दौरान कहीं से किसी बड़ी अप्रिय घटना की सूचना नहीं मिली है. कपाली में उपाध्यक्ष पद के लिए होनेवाले चुनाव की तिथि की घोषणा बाद में की जायेगी. जहां तक मतदाता सूची व परिसीमन संबंधी समस्याअों की बात है, तो यह राज्य निर्वाचन अायोग व जिला प्रशासन में रहे थोड़े असमंजस व समय के अभाव के कारण हुआ. इसे जल्द दूर कर लिया जायेगा.

यह भी पढ़ें: जम्मू-कश्मीर में निकाय चुनाव, आखिरी चरण की वोटिंग जारी

स्रोत: palpalindia.com

सामाजिक नेटवर्क में शेयर:

टिप्पणियां - 0