NewsHub के साथ गर्मागर्म विषयों पर ताज़ातरीन ख़बरों के अपडेट प्राप्त करें। अभी इन्स्टाल करें।

दो देशों में तनाव की वजह बना 'कचरे का समंदर'

६ नवंबर, २०१७ २:०४ अपराह्न
108 0
दो देशों में तनाव की वजह बना 'कचरे का समंदर'

उन्होंने बीबीसी को बताया, "बरसात के मौसम में हम सवेरे उठ कर कचरा साफ़ करते हैं और दोपहर तक फिर से किनारे पर कचरा आ जाता है। अगर हमने कुछ नहीं किया तो ये इकट्ठा होता रहता है और हर जगह बस कचरा ही कचरा नज़र आता है।"

वो कहते हैं, "यह दुर्भाग्यपूर्ण है, क्योंकि ये जो यहां आ रहा है वो कचरा है जो अपने साथ बीमारियां लाता है। मुझे नहीं पता कि ये कचरा कौन डाल रहा है- होंडुरास या ग्वाटेमाला, लेकिन हमारे लिए ये किसी बुरे सपने के जैसा है।"

वो कहते हैं, "लोग समुद्र के किनारे नहीं जाना चाहते क्योंकि उन्हें प्रदूषण से डर लगता है। समुद्र के किनारे रेत पर लेटना और सोना ख़तरे से खाली नहीं क्योंकि रेत में दबी हुई सुईयां हो सकती हैं जो आपकी पीठ पर चुभ जाएंगी।"

उन्होंने बीबीसी को बताया, "समुद्री लहरों के कारण इसका पूरे कोरल रीफ़ पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है। ये कोरल रीफ़ होंडुरास और ग्वाटेमाला दोनों ही देशों के हैं।"

नवो कहते हैं, "मोटागुआ के अधिकांश हिस्सा ग्वाटेमाला में है। नदी के किनारे वहां की 95 नगरपालिकाएं हैं जिनमें से 27 नगरपालिकाएं अपना ठोस कचरा नदी में डालती हैं। हमारी केवल 3 नगरपालिकाएं नदी से जुड़ी हैं। नदीं में आने वाला 86 फ़ीसदी कचरा ग्वाटेमाला से आता है।"

लेकिन वो कहते हैं कि इतना काफ़ी नहीं है। वो कहते हैं, "हमें कचरे में कपड़े, प्लास्टिक, अस्पताल का कूड़ा, खून, सिरींज की सुईयां, जानवरों और यहां तक ​​कि इंसानों के शव भी मिले हैं।"

वो कहते हैं, "इस कचरे के द्वीप के लिए ग्वाटेमाला की सरकार ज़िम्मेदार है जिसमे बीते कई सालों में नदियों में कूड़ा फेंकने से रोकने के लिए कुछ नहीं किया।"

रफाएल माल्डोनाडो कहते हैं, "होंडुरास में जो हो रहा है उसके लिए ग्वाटेमाला का ख़राब पर्यावरण प्रबंधन जिम्मेदार है। जो कूड़ा मोटागुआ में नदी में फेंका जाता है वह समुद्र तक पहुंचकर समुद्र में जाता है और सरकार इसे रोकने के लिए ज़रूरी निवेश नहीं कर रही है।"

वो कहते हैं, "मैंने कभी भी मानव शवों के बारे में कुछ नहीं सुना। अगर ऐसा है तो इसकी जांच होनी चाहिए कि ये शव कहां से आ रहे हैं। मैंने इनके बारे में नहीं सुना।"

बात का आश्वासन दे सकता हूं कि अगले साल से हम समुद्र में कचरा नहीं बढ़ाएंगे क्योंकि हमारे पास ज़रूरी बुनियादी सुविधाएं हैं।"

दूसरे पर किसी बात के लिए आरोप लगाना बेहद आसान है, मुझे लगता है कचरे की समस्या किसी एक की नहीं बल्कि हर किसी की है।"

ट्रावेसिया में रहने वाले कार्लोस फोनसेका कहते हैं, "अब इस मामले में सर्दियां शुरू हो गई हैं। अब बारिश आएगी और हम जानते हैं कि समुद्र किनारे और भी कचरा आएगा।"

स्रोत: inextlive.jagran.com

सामाजिक नेटवर्क में शेयर:

टिप्पणियां - 0