NewsHub के साथ गर्मागर्म विषयों पर ताज़ातरीन ख़बरों के अपडेट प्राप्त करें। अभी इन्स्टाल करें।

धर्मनिरपेक्षता आजादी के बाद सबसे बड़ा झूठ

१४ नवंबर, २०१७ ३:०२ अपराह्न
1 0

Raipur, 14 November : उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने धर्मनिरपेक्षता को आजादी के बाद सबसे बड़ा झूठ करार दिया है. कहा कि इस शब्द का ईजाद करने वालों और बार बार इसका इस्तेमाल करने वालों को जनता से माफी मांगने को कहा है. योगी ने सोमवार को राजधानी रायपुर में समाचार पत्र नई दुनिया के एक कार्यक्रम के दौरान कहा कि उनका यह मानना है कि भारत के अंदर आजादी के बाद का सबसे बड़ा झूठ धर्मनिरपेक्षता है. इसने भारत की अपूरणीय क्षति की है.

योगी ने कहा, ‘‘इस शब्द को जन्म देने वाले और बार बार इसका इस्तेमाल करने वाले लोगों को भारत की जनता से माफी मांगनी चाहिए.’’ उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री ने कहा कि धर्मनिरपेक्ष कोई शब्द नहीं है. धर्म हमारे यहां कर्तव्य, सदाचार और नैतिक मूल्यों का पर्याय है. जिसमें व्यक्ति और समाज का जीवन निर्भर करता है.

उन्होंने कहा कि हम सबका मानना है कि इतिहास को सही परिप्रेक्ष्य में रखा जाना चाहिए. इतिहास केवल एक परीक्षा की वस्तु या केवल पढ़ने का अक्षर ज्ञान मात्र नहीं है. यह हम सबके लिए प्रेरणादायी अवसर होता है. इसलिए इतिहास के तथ्यों को तोड़ मरोड़कर प्रस्तुत करना राष्ट्रद्रोह से कम नहीं है.

योगी ने कहा कि स्वामी विवेकानंद ने कहा था कि जो जाति अपने महापुरूषों पर गौरव की अनुभूति नहीं कर सकती उसका कोई भविष्य नहीं हो सकता है. और मुझे लगता है कि अतीत हम सबको एक नई प्रेरणा देने के लिए हमेशा तत्पर रहता है. वह हमारे वर्तमान को झकझोरता है और हमारे भविष्य की दिशा भी तय करता है.

योगी आदित्यनाथ ने इस दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तारीफ की और कहा कि भारत ने आजादी के बाद अपने 70 वर्षों के इस कालखंड में अनेक उतार चढ़ाव देखे हैं. इसमें तीन वर्ष का एक कार्यकाल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भारत तय कर रहा है.

स्रोत: newswing.com

सामाजिक नेटवर्क में शेयर:

टिप्पणियां - 0