NewsHub के साथ गर्मागर्म विषयों पर ताज़ातरीन ख़बरों के अपडेट प्राप्त करें। अभी इन्स्टाल करें।

प्रदीप द्विवेदीः ज्योतिषों से जान रहे हैं- क्या है चुनावी भविष्य? और कैसे चुनाव जीतेंगे?

१४ नवंबर, २०१८ १०:१० पूर्वाह्न
19 0
प्रदीप द्विवेदीः ज्योतिषों से जान रहे हैं- क्या है चुनावी भविष्य? और कैसे चुनाव जीतेंगे?

सियासत के सितारे. विधानसभा चुनाव आते ही अचानक ज्योतिषियों का महत्व बढ़ गया है. कुछ सरेआम तो कुछ छुप-छुप कर ज्योतिषियों की सलाह ले रहे हैं और उनकी सलाह के अनुरूप संकल्प-पूजा, सुरक्षा-उपाय और देव-दर्शन भी कर रहे हैं.

राजनीति में कर्म से बड़ी भाग्य की भूमिका है, इसलिए चुनाव में ज्योतिष से यह जानने की कोशिश की जाती है कि सियासत के सितारे क्या कहते हैं? क्या है चुनावी भविष्य? और कैसे चुनाव जीतेंगे?

इस संबंध में सुपर स्टार गोविंदा की बहन ब्यूटी विद् एस्ट्रोलाॅजी फेम कामिनी खन्ना, मुंबई (9004896321) का कहना है कि भाग्य को संवारा जा सकता है, बदला नहीं जा सकता है, लेकिन जन्म पत्रिका से यह पता चल जाता है कि वर्तमान समय कैसा है? और भाग्य में आ रही बाधाओं को दूर कैसे किया जा सकता है?

राजस्थान के पाली शहर के पं. दिनेश दिनकर (9829555579), भूत, भविष्य और वर्तमान जानने के अपने विशेष तरीके के लिए प्रसिद्ध हैं. वे हस्ताक्षर से किसी राजनेता को भविष्य की जानकारी देते हैं.

पिछले जन्मों के राज से रूबरू कराने वाली प्रसिद्ध ज्योतिषी रजनी सिंघल, जयपुर (961982256), पिछले जन्म की समस्याओं के प्रभाव की जानकारी देने के साथ-साथ टैरो कार्ड के माध्यम से भविष्य बताती हैं तथा चुनाव के दौरान आने वाली समस्याओं के समाधान की राह दिखाती हैं.

जयपुर में ही नाड़ी ज्योतिष के माध्यम से संपूर्ण जीवन की जानकारी देने वाले नंदा ज्योतिषी के पास अनेक मंत्री, राजनेता जाते रहे हैं. नाड़ी ज्योतिष दक्षिण भारत में विशेषरूप से लोकप्रिय है, जिसमें अंगुठे के इंप्रेशन से अगस्त्य ऋषि द्वारा मूल तमिल में लिखित पट्टियों के माध्यम से किसी व्यक्ति का भविष्य बताया जाता है.

नाड़ी ज्योतिष की तरह ही उत्तर भारत में लोकप्रिय भृगु संहिता के लिए भीलवाड़ा जिले का कारोई गांव विख्यात है. श्रीमती अनिता बताती हैं कि यदि आपके पास जन्म कुंडली नहीं है तब भी कोई परेशानी की बात नहीं है. भृगु संहिता की कुंडलियों में व्यक्ति का भूत, भविष्य ओर वर्तमान अंकित है. भृगु संहिता की मूल प्रतियां पं. नाथूलाल व्यास के पास उपलब्ध हैं. कारोई के पंडित स्वर्गीय राधेश्याम व्यास भृगु संहिता बाचने में पारंगत थे और उनके पास कई प्रसिद्ध व्यक्ति भविष्य जानने के लिए आते थे. अभी उनके पुत्र मोहित व्यास भृगु संहिता पढ़ते हैं.

मध्यप्रदेश के चुनावी बयार में इंदौर के पं. चंद्रशेखर नेमा हिमांशु (9893280184,7000460931) एवं जबलपुर के पं.प्रदीप मिश्रा शास्त्री (9425161406) प्रत्याशियों को ग्रहों की चाल एवं गणना के माध्यम से जीत का मार्ग प्रशस्त करने में जुटे हुए हैं.

सियासत के सितारों की गति को बदला नहीं जा सकता है, इसलिए कोई भी ज्योतिषी जीत की तलवार तो नहीं दे सकता है, परन्तु सुरक्षा की ढाल जरूर उपलब्ध करवा सकता है! यह बात अलग है कि चुनाव जीतने के लिए भाग्य की ढाल के अलावा कर्म की तलवार का साथ भी जरूरी है!

स्रोत: palpalindia.com

सामाजिक नेटवर्क में शेयर:

टिप्पणियां - 0