NewsHub के साथ गर्मागर्म विषयों पर ताज़ातरीन ख़बरों के अपडेट प्राप्त करें। अभी इन्स्टाल करें।

प्रदीप द्विवेदीः भाजपा के लिए चेतावनी हैं कर्नाटक उपचुनाव के नतीजे!

६ नवंबर, २०१८ १०:३६ पूर्वाह्न
6 0
प्रदीप द्विवेदीः भाजपा के लिए चेतावनी हैं कर्नाटक उपचुनाव के नतीजे!

तत्काल. कर्नाटक उपचुनाव के नतीजे भाजपा को बड़ी चेतावनी हैं कि यदि गैरभाजपाई दल एक हो गए तो 2019 के चुनाव के बाद केन्द्र की सत्ता में फिर से आने का भाजपाई ख्वाब, ख्वाब ही रह जाएगा!

कुछ समय पहले उपचुनाव हारने के बावजूद यूपी में भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने सपा-बसपा गठबंधन के प्रभाव को नकार दिया था, किन्तु कर्नाटक चुनाव के नतीजे बताते हैं कि सियासी गणित मे कोई बड़ा बदलाव नहीं आया है और यदि विपक्ष एकजुट होकर चुनाव लड़ा तो भाजपा को भारी नुकसान होगा. अकेले कर्नाटक में ही भाजपा को इससे दस से ज्यादा लोकसभा सीटों का घाटा हो सकता है. हकीकत में यह चेतावनी विपक्ष को भी है कि यदि कांग्रेस को साथ लेकर और एकजुट हो कर भाजपा को चुनौती नहीं दी गई तो यूपी में भाजपा को हराना आसान नहीं होगा!

खबर है कि... कर्नाटक उपचुनाव में कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन ने 5 में से 4 सीटें जीत ली हैं. कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन ने बेल्लारी, मंड्या, रामनगर और जमखंडी सीटों पर जीत दर्ज की है, वहीं भाजपा ने शिवमोगा लोकसभा सीट से जीत दर्ज की है.

कांग्रेस के वीएस उग्रप्पा ने बेल्लारी लोकसभा सीट पर 243161 वोटों से जीत हांसिल की, जेडीएस के एलआर शिवरामे गौड़ा ने मंड्या लोकसभा सीट पर 324943 वोटों से जीत दर्ज की तो भाजपा के राघवेंद्र ने शिवमोगा लोकसभा सीट पर 52148 वोटों से जीत दर्ज की है. जमखंडी विधानसभा सीट से कांग्रेस के आनंद सिद्धू न्यामगौड़ा ने 39480 वोटों से जीत दर्ज की है तो मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी की पत्नी और जेडीएस नेता अनिता कुमारस्वामी ने रामनगर विधानसभा सीट पर 109137 वोटों से जीत हांसिल की है. हार-जीत का अंतर बताता है कि कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन मजबूत स्थिति में है, जबकि भाजपा के लिए मुश्किल बढ़ती जा रही है!

इस जीत के बाद कर्नाटक के मुख्यमंत्री और जेडीएस नेता एचडी कुमरस्वामी ने प्रेस से कहा कि- यह चुनाव पहला कदम था, यहां 28 लोकसभा सीट हैं, हम उन सबको जीतने के लिए कांग्रेस के साथ काम करेंगे, यही हमारा लक्ष्य है, वहीं पूर्व मुख्यमंत्री सिद्दारमैया का कहना था कि 2019 के लोकसभा चुनाव में पार्टी कम-से-कम 20 सीटें जीतेगी!

भाजपा के लिए कर्नाटक नतीजे इसलिए भी चिंतन का विषय हैं कि केन्द्रीय भाजपा आम चुनाव में अपने दम पर दक्षिण भारत में कुछ खास कर दिखाना चाहती है. जब दक्षिण के प्रवेश द्वार पर भाजपा की यह स्थिति है तो आगे के परिणाम कैसे रहेंगे, इसका अनुमान सहज ही लगाया जा सकता है!

स्रोत: palpalindia.com

सामाजिक नेटवर्क में शेयर:

टिप्पणियां - 0