NewsHub के साथ गर्मागर्म विषयों पर ताज़ातरीन ख़बरों के अपडेट प्राप्त करें। अभी इन्स्टाल करें।

बिना सूचना अतिक्रमण पर चला बुलडोजर, पथराव, लाठीचार्ज

१२ सितंबर, २०१७ २:११ पूर्वाह्न
1 0

PATNA : बोरिंग चौराहा के वेस्ट साइड में फुटपाथ पर आबाद दुकान पर पुलिस प्रशासन और नगर निगम का सामूहिक रूप से बुलडोजर चला। बिना सूचना के अचानक से पहुंचे पुलिस प्रशासन की टीम ने जब ठेला और गुमटी पर बुलडोजर चलाना शुरू किया, तो ऐसे लोगों में त्राहिमाम मच गया। पहले तो लोग रोजी- रोटी की दुहाई देते रहे, मगर बाद में सब कुछ बर्बाद हो जाने पर एकजुट होकर रोड जाम कर आगजनी किया। इसके बाद पथराव और लाठीचार्ज का दौर हुआ.

दोपहर करीब एक बजे के बाद पुलिस प्रशासन की टीम बुलडोजर, बज्र वाहन, महिला- पुरुष बल और मजदूरों की टीम लेकर पहुंचे। इसके बाद वेस्ट बोरिंग रोड के कुमार टावर के सामने वाहन पार्किंग स्थल पर अतिक्रमण कर कारोबार कर रहे लोगों पर बुलडोजर चलाना शुरू कर दिया। लाग- बाग जब तक कुछ समझते, उनके गुमटी, ठेला आदि को ढाहने का काम शुरू कर दिया गया। पहले तो लोग पुलिस प्रशासन के पदाधिकारियों से रोजी- रोटी का हवाला देकर समय देने की बात कहने लगे, ताकि सामान को हटाया जा सके। मगर वे सब पटना हाईकोर्ट के आदेश का हवाला देते हुए कुछ भी सुनने को तैयार नहीं हुए और लोगों का सामान के साथ ठेला, गुमटी आदि अस्थाई निर्माण को ढाहा जाने लगा। जब कुछ बचने की उम्मीद नहीं रही, तो लोग उस स्थान को छोड़ आगे बढ़े.

दुकानदार थोड़ा आगे जाकर एकजुट हुए और फिर रोड जाम कर दिया। सड़क पर आगजनी की गई। बस समेत अन्य वाहनों का शीशा भी तोड़ा गया। इसके बाद भी पुलिस ने उन सबों की नहीं सुनी, तो इस बीच पुलिस पर पथराव कर दिया गया। इसके बाद तो पुलिस ने विरोध और रोड़ाबाजी कर रहे लोगों पर लाठीचार्ज शुरू कर दिया। इस घटना में दर्जन भर लोग घायल हुए। घायलों में राहुल, अजय, माइकल, बबलु, लक्ष्मी, छोटू, सोनू आदि शामिल हैं। अजय कुमार सिर फट गया है, राहुल का हाथ जला है, तो एक अन्य गंभीर रूप से घायल है। गंभीर घायलों और सिर फटे लोगों को पुलिस जीप पर बैठा कर इलाज को लेकर गई। बोरिंग रोड चौराहा पर करीब तीन घंटा तक वाहनों का परिचालन बाधित रहा। प्रभावित लोगों ने बुद्धा कालोनी थाना जाकर पुलिस पदाधिकारियों से बात करने और मामला दर्ज कराने को गए हैं। इधर पुलिस का मानना है कि पटना हाईकोर्ट का आदेश है, तो उसे लागू कराना ही है। अतिक्रमण हटाने के बाद भी लोग दोबारा काबिज हो जाते हैं और पुलिस प्रशासन के आफिसरों को अवमानना वाद को लेकर कोर्ट में खड़ा हो फजीहत का सामना करना पड़ता है। वैसे रोड जाम कर रोड़ेबाजी करने वालों को चिन्हित कर मामला दर्ज करने की बात भी कही जा रही है.

यह भी पढ़ें: मंटोला बवालियों पर पुलिस ने किया मुकदमा

स्रोत: inextlive.jagran.com

सामाजिक नेटवर्क में शेयर:

टिप्पणियां - 0