NewsHub के साथ गर्मागर्म विषयों पर ताज़ातरीन ख़बरों के अपडेट प्राप्त करें। अभी इन्स्टाल करें।

भारत में करोड़ों लोगों को जकड़ चुका है अस्थमा, विटामिन डी बन सकती है रामबाण

१० अक्‍तूबर, २०१७ ३:४७ पूर्वाह्न
5 0
भारत में करोड़ों लोगों को जकड़ चुका है अस्थमा, विटामिन डी बन सकती है रामबाण

डॉ. अग्रवाल ने कहा कि ऐसा होने पर आसपास की मांसपेशियों को मजबूती मिलती है. नतीजतन, वायुमार्ग संकरा हो जाता है, जिससे फेफड़ों में बहने वाली हवा कम हो जाती है. इस प्रकार, वायुमार्ग की कोशिकाएं सामान्य से अधिक बलगम बनाने लगती हैं. ये सभी अस्थमा के लक्षण हो सकते हैं. वायुमार्ग में सूजन हो सकती है. उन्होंने कहा कि इस बीमारी के कुछ सबसे आम लक्षण हैं- रात में, व्यायाम के दौरान या हंसते समय सांस लेने में कठिनाई, छाती में जकड़न, सांस की कमी और घरघराहट (विशेषकर सांस छोड़ते समय). यदि उपचार न किया जाए तो अस्थमा के लक्षण खतरनाक हो सकते हैं.

* चिकित्सा सलाह का ध्यानपूर्वक पालन करें. अस्थमा पर नियमित रूप से निगरानी रखने की आवश्यकता है और निर्धारित दवाएं लेकर लक्षणों को काबू में रखने में मदद मिल सकती है.

* इंफ्लूएंजा और न्यूमोनिया के टीके लगवाने से अस्थमा के दौरे से बचा जा सकता है.

* उन ट्रिगर्स को पहचानें जो अस्थमा को तेज करते हैं. ये एलर्जी पैदा करने वाले धूलकण और सूक्ष्म जीव तक कुछ भी हो सकते हैं.

* सांस लेने की गति और अस्थमा के संभावित हमले को पहचानें. इससे आपको समय पर दवा लेने और सावधानी बरतने में सहूलियत होगी.

स्रोत: khabar.ndtv.com

सामाजिक नेटवर्क में शेयर:

टिप्पणियां - 0