NewsHub के साथ गर्मागर्म विषयों पर ताज़ातरीन ख़बरों के अपडेट प्राप्त करें। अभी इन्स्टाल करें।

मोदी सरकार ने बकरीद से पहले दिया बड़ा झटका

१२ अगस्त, २०१८ २:२४ पूर्वाह्न
6 0
मोदी सरकार ने बकरीद से पहले दिया बड़ा झटका

नई दिल्ली. इस्लाम का पवित्र त्योहार बकरीद जिसे ईद-उल-अज़हा और ईद-उल-ज़ुहा भी कहा जाता है, आने वाला है. माना जा रहा है बकरीद 2018 इस बार 21 या 22 अगस्त को पड़ सकती है. ईद-उल-ज़ुहा के दिन मुस्लिम समुदाय के लोग बकरे या किसी अन्य पशु की कुर्बानी देते हैं. इस्लाम में इस दिन को फर्ज़-ए-कुर्बान का दिन कहा गया है.लेकिन बकरीद के पहले ही मोदी सरकार ने एक अहम फैसला ले लिया है. मोदी सरकार ने श के सभी सी पोर्ट्स से बकरियों और भेड़ों के निर्यात पर रोक लगा दी है.

देश में सभी बंदरगाहों से पशुधन निर्यात पर सरकार ने अनिश्चितकालीन रोक लगा दी है. जानवरों के हितों के लिए काम करने वाली संस्थाओं की मांग को देखते हुए सरकार ने यह निर्णय लिया है. PETA ने की सरकार से गुजारिश हाल ही में पशुओं के हितों के लिए काम करने वाली संस्था PETA ने सभी राज्य सरकारों को पत्र लिखकर मांग की है कि बकरीद के अवसर पर होने वाले पशुओं की अवैध तरीके से कुर्बानी को रोका जाए. पेटा ने कहा है कि पशुओं का वध सिर्फ लाइसेंस वाले बूचड़खाने में ही होना चाहिए.

जिसके देखते हुए सरकार ने ये कदम उठाया हैं. लेकिन सरकार के अचानक उठाये गए इस कदम से निर्यातकों को करोड़ों का नुकसान हो रहा हैं. क्योंकि बकरीद से पहले मिडल-ईस्ट के देशों में तकरीबन 2 लाख बकरियां और भेड़ें भेजी जानी थीं. लेकिन सरकार के इस कदम से अब ऐसा नहीं हो पाएगा. सरकार के इस कदम से हुआ करोड़ों का नुकसान सरकार के इस कदम का निर्यातक जमकर विरोध कर रहे है. निर्यातकों को कहना है की जहाज मालिकों ने यात्रा की विशेष अनुमति मांगी थी.

जिसे मंत्रालयों ने मान लिया था. तो अब अचानक ये फैसला क्यों लिया गया.निर्यातकों को यह भी कहना है की सरकार के ऐसा करने से हमे काफी नुकसान उठाना पडे़गा. क्योंकि हमने अनुमति मिलने के बाद विदेशी ग्राहकों से हमने अडवांस पेमेंट भी ले लिया था. सरकार के इस कदम से अब हमे करोड़ों रुपये का नुकसान होने जा रहा है.देश से खासकर भेड़ों और बकरियों का निर्यात होता है. इतना हुआ था फायदा अगर अब बात आंकड़ो की जाए तो वाणिज्य मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार, मवेशियों का एक्सपोर्ट 2013-14 में 69.30 करोड़ रुपए था, जो 2016-17 तक 527.40 करोड़ रुपये हो गया. जबकि 2017-18 में यह गिरकर 411.02 करोड़ रुपये हो गया है. एनडीए सरकार के दौरान देश से पशुधन निर्यात में काफी तेजी देखने को मिली थी.

यह भी पढ़ें: कांग्रेस का दावा: मोदी सरकार से त्रस्त है जनता, हर तबका नुकसान में

स्रोत: palpalindia.com

सामाजिक नेटवर्क में शेयर:

टिप्पणियां - 0