NewsHub के साथ गर्मागर्म विषयों पर ताज़ातरीन ख़बरों के अपडेट प्राप्त करें। अभी इन्स्टाल करें।

यूपी गठबंधन पर कांग्रेस ने कहा- ‘सपा-बसपा ने वही किया जो भाजपा चाहती थी

१५ जनवरी, २०१९ १:२९ अपराह्न
152 0
यूपी गठबंधन पर कांग्रेस ने कहा- ‘सपा-बसपा ने वही किया जो भाजपा चाहती थी

नई दिल्ली. बहुजन समाज पार्टी और समाजवादी पार्टी के गठबंधन पर कांग्रेस ने कहा कि ये दोनों पार्टियां भाजपा के जाल में फंस गई हैं. गठबंधन से खुद को अलग रखे जाने की संदर्भ में कांग्रेस ने कहा कि इन्होंने वही किया जो भाजपा चाहती थी. कांग्रेस प्रवक्ता आरपीएन सिंह ने कहा कि भाजपा चाहती थी कि उत्तर प्रदेश में धर्मनिरपेक्ष दल एकजुट नहीं हों ताकि वोटों का बंटवारा होने का फायदा उसे मिले तथा वह अपने इस प्रयास में सफल रही. बता दें, अखिलेश यादव और मायावती ने लोकसभा चुनाव के लिए हालही गठबंधन का ऐलान किया था.

कांग्रेस प्रवक्ता सिंह ने कहा, ‘सपा-बसपा ने कांग्रेस को अलग रखकर वही किया जो भाजपा चाहती थी. ऐसा लगता है कि ये दोनों पार्टियां भाजपा के जाल में फंस गई.' उन्होंने कहा कि हर जगह यही प्रयास हो रहा है कि भाजपा विरोधी दल एकजुट हों और यह सुनिश्चित किया जाए कि वोटों का बंटवारा नहीं हो तथा उत्तर प्रदेश में भी यही होना चाहिए था.

गौरतलब है कि सपा और बसपा ने लोकसभा चुनाव के लिए अपने गठबंधन से कांग्रेस को अलग रखा है, हालांकि दोनों ने रायबरेली और अमेठी की सीटें उसके लिए छोड़ दी हैं. सपा और बसपा ने यूपी की 80 लोकसभा सीटों में 38-38 पर चुनाव लड़ेने का फैसला किया है. इसके अलावा उन्होंने दो सीटें छोटे दलों के लिए छोड़ दी हैं. सपा-बसपा के गठबंधन के बाद कांग्रेस ने यूपी में सभी 80 लोकसभा सीटों पर अकेले चुनाव लड़ने का ऐलान किया. हालांकि, कांग्रेस ने कहा कि वह उन सभी दलों का सम्मान और स्वागत करती है जो भाजपा को हराने के लिए उनके साथ आना चाहते हैं.

बता दें, बसपा प्रमुख मायावती ने मंगलवार को अपने जन्मदिन पर प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए कहा कि सपा-बसपा के गठबंधन से भाजपा और अन्य पार्टियों की नींद उड़ गई है. यूपी ही तय करता है कि देश में किसकी सरकार बनेगी. इस गठबंधन को जनहित में कामयाब बनाने के लिए बसपा और सपा के लोगों से अपील करती हूं कि आप अपने पुराने गिले-शिकवे किनारे करके अपने इस गठबंधन के सभी उम्मीदवारों को ऐतिहासिक जीत दिलाएं. यह मेरे जन्मदिन के लिए बड़ा तोहफा भी होगा.

मायावती ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा, "आजादी के बाद से इस देश में सबसे ज्यादा शासन कांग्रेस ने किया, लेकिन गरीब, पिछड़ा और अल्पसंख्यकों को उनका हिस्सा नहीं मिला. इसी वजह से हमें बसपा का गठन करना पड़ा. हाल के विधानसभा चुनाव परिणाम बीजेपी और कांग्रेस के लिए एक पाठ है. उन्होंने कहा कि तीन राज्यों में जहां कांग्रेस की सरकार बनी है, वहां किसानों की कर्जमाफी को लेकर उंगलियां उठ रही हैं."

स्रोत: palpalindia.com

सामाजिक नेटवर्क में शेयर:

टिप्पणियां - 0