NewsHub के साथ गर्मागर्म विषयों पर ताज़ातरीन ख़बरों के अपडेट प्राप्त करें। अभी इन्स्टाल करें।

रोहिंग्या मुस्लिम महिला की आंखोंदेखी: सैनिक आए और लाशें बिछा गए, घर भी कर दिया खाक

१२ सितंबर, २०१७ २:४६ पूर्वाह्न
7 2
रोहिंग्या मुस्लिम महिला की आंखोंदेखी: सैनिक आए और लाशें बिछा गए, घर भी कर दिया खाक

राशिदा ने बताया कि जब म्यांमार की सेना उनके गांव पहुंचकर गोली चलाने लगी तो वो अपने बच्चों को लेकर जंगल में भाग गईं।

राशिदा ने अल जज़ीरा को बताया, “…मैं एक बेहद सामान्य और शांतिपूर्ण जीवन जीती थी। हमारे पास धान के खेत थे जिन पर हम खेती करते थे। मेरे पास घर था, पति था और तीन बच्चे थे। सबकुछ शांतिपूर्ण था जब तक कि हिंसा नहीं शुरू हुई।” राशिदा का परिवार अपना सबकुछ छोड़कर बांग्लादेश पहुंचा है। राशिदा ने कहा, “हमारे खेत और घर जला दिए गए। अब वहां हम जीवन नहीं चला सकते थे।”

राशिदा के अनुसार सेना ने गांववालों पर अंधाधुंध गोलियां चलाईं। राशिदा ने बताया, “जब सेना ने हमारे गांव पर अंधाधुंध गोलिया चलानी शुरू की तो मैं अपने बच्चों को लेकर जंगल में भागी और उन्हें छिपा दिया। जंगल में वो काफी डरे हुए थे। जब मैं दोबारा घर गई तो देखा कि कई लोग गोलियों से मारे जा चुके हैं। जंगल के रास्त से होते हुए हम आठ दिन पैदल चलकर सीमा पर पहुंचे। हमें बहुत भूख लगी थी। हमारे पास पेड़ों के पत्ते के अलावा खाने के लिए कुछ नहीं था। बच्चे खाना मांग रहे थे लेकिन हमारे पास कुछ नहीं था।”

राशिदा ने बताया कि उन्होंने एक छोटी सी नाव से सीमा पार की। राशिदा ने कहा, “मुझे बहुत डर लग रहा था। लगता था कि नाव कहीं डूब न जाए इसलिए मैं अपने बच्चो को कस कर पकड़े हुई थी।” बांग्लादेश में एक कैंप में रह रही राशिदा बहुत खुश नहीं हैं। वो कहती हैं, “मुझे अपने घर की याद आती है। यहां हम नाउम्मीद है। पता नहीं हमारा भविष्य क्या होगा?”

स्रोत: jansatta.com

सामाजिक नेटवर्क में शेयर:

टिप्पणियां - 2
R RAMESH

१२ सितंबर, २०१७ २:४७ पूर्वाह्न

इन रोहिंगया कटुओ को तब तक मारो जब तक ये खत्म न हो जाए ।

S suresh k

१२ सितंबर, २०१७ २:४७ पूर्वाह्न

कश्मीरी पंडितो की महिलाओ के साथ मुस्लिम गुंडों जो किया था वह भी छापो कभी ??????????? मुस्लिम देश अपने यहाँ क्यों नहीं लेते अपने भाइयो को ?????????.