NewsHub के साथ गर्मागर्म विषयों पर ताज़ातरीन ख़बरों के अपडेट प्राप्त करें। अभी इन्स्टाल करें।

सुप्रीम कोर्ट ने आम्रपाली ग्रुप के तीनों निदेशकों के घर में रहने की मांग की खारिज

१२ अक्‍तूबर, २०१८ ३:१३ पूर्वाह्न
6 0
सुप्रीम कोर्ट ने आम्रपाली ग्रुप के तीनों निदेशकों के घर में रहने की मांग की खारिज

नई दिल्ली। आम्रपाली ग्रुप मामले की सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने आम्रपाली के CMD और दो निदेशकों को पुलिस की हिरासत में नोएडा के सेक्टर 62 स्थित एक होटल (ऐसंट) में रखने के आदेश दिए हैं. कोर्ट ने आम्रपाली के तीनों निदेशकों की पुलिस कस्टडी 15 दिन बढ़ा दी है. तीनों नोएडा के होटल में पुलिस की निगरानी में रहेंगे.

कोर्ट ने उनकी घर में रहने की मांग को खारिज कर दिया है. कोर्ट ने कहा कि मोबाइल का इस्तेमाल तभी कर सकेंगे जब वो फोरेंसिक टीम के साथ (दिन) में होंगे और कॉल के जरिये केवल उन लोगों से संपर्क करेंगे जिनकी ऑडिटर को जरूरत होगी. सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि शाम को जब होटल से वापस आएंगे तो उनका मोबाइल ले लिया जाएगा.

सुप्रीम कोर्ट ने आदेश में कहा है कि दस्तावेजों की सूची, वर्गीकरण और उन्हें सारणीबद्ध किया जाए ताकि फॉरेंसिक ऑडिट सुचारू रूप से हो सके. ऑडिट के दौरान तीनों निदेशक पूरा सहयोग करें और प्रोसेस के दौरान अगले 15 दिन तक सवेरे 8 से शाम 6 बजे तक हाज़िर रहे.

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि नोएडा सेक्टर 58 के SHO खुद परिसर खुलने बंद होने के समय हाज़िर रहेंगे. ऑडिटर्स स्टाफ के अलावा खुद सुपरवाइज करेंगे. एक जगह का ऑपरेशन पूरा हो जाने के बाद ही दूसरी जगह का ऑपरेशन शुरू होगा. दूसरा ऑपरेशन शुरू होने से पहले पहला सील हो जाएगा.

काम का कैटलॉग बनाकर उनके खत्म होते जाने के भी चार्ट बनाए जाएं. इंटरनल, एक्सटर्नल ऑडिटर्स के अलावा सीएफओ फोरेंसिक ऑडिट सहयोग करें. इस दौरान तीनों नोएडा के पार्क एसेंट होटल में रात गुजारने भर को जाएंगे. ऑपरेशन खत्म होने तक मोबाइल साथ रखने की इजाज़त नहीं होगी.

पुलिस की पैनी निगाह रहेगी. फॉरेंसिक ऑडिटर्स ने कहा कि कागज़ पूरे मिलने के बाद 15 दिनों में ऑडिट शुरू हो सकेगा. फोरेंसिक ऑडिट में दस हफ़्ते लगेंगे. कोर्ट ने कहा कि 9 अक्‍टूबर के आदेश के मुताबिक, इन तीनों ने कोर्ट के आदेश के अनुपालन में बाधा डाली. इनके खिलाफ कंटेम्प्ट नोटिस भेजा जा रहा हैं. अगली सुनवाई 20 नवम्बर को होगी.

स्रोत: mahanagartimes.com

सामाजिक नेटवर्क में शेयर:

टिप्पणियां - 0