NewsHub के साथ गर्मागर्म विषयों पर ताज़ातरीन ख़बरों के अपडेट प्राप्त करें। अभी इन्स्टाल करें।

90 दिनों की सीमा के चलते नहीं खारिज होगा बीमा क्लेम, कंपनी पर 1 करोड़ का लगा जुर्माना

१२ फ़रवरी, २०१८ ९:४६ पूर्वाह्न
4 0
90 दिनों की सीमा के चलते नहीं खारिज होगा बीमा क्लेम, कंपनी पर 1 करोड़ का लगा जुर्माना

नई दिल्ली. राष्ट्रीय उपभोक्ता विवाद निवारण आयोग (एनसीडीआरसी) ने एक मामले में बीमा कंपनी को आदेश दिया है कि वह मृतक पॉलिसीधारक के परिवार को 9 फीसदी के ब्याज के साथ 2.5 लाख रुपये की राशि का भुगतान करे. इस मामले में पॉलिसीधारक की मौत पॉलिसी खरीदने के 90वें दिन हो गई थी. पंजाब के फाजिल्का के रहने वाले कुलविंदर सिंह ने 26 मई 2010 को एचडीएफसी स्टैंडर्ड लाइफ इंश्योरेंस से एक बीमा पॉलिसी खरीदी थी. उन्होंने बतौर प्रीमियम 45,999 रुपये का भुगतान किया था. 2010 में ही 25 अगस्त को हार्ट-अटैक से उनकी मौत हो गई.

परिवार ने जब बीमा कंपनी के पास क्लेम किया तो कंपनी ने उन्हें सिर्फ प्रीमियम ही वापस किया. जस्टिस एस श्रीशा की सिंगल जज वाली बेंच ने 27 जून 2012 को बीमा नियामक इरडा द्वारा जारी आदेश का हवाला देते हुए बीमा कंपनी को पूरी राशि देने के लिए कहा. एनसीडीआरसी ने कहा कि बीमा कंपनियां 90 दिनों का वेटिंग पीरियड नहीं रख सकती. इसके एवज में क्लेम को खारिज नहीं किया जा सकता. इरडा ने इसी कंपनी पर 90 दिनों के वेटिंग पीरियड की आड़ में 21 क्लेम रिजेक्ट करने के लिए 1 करोड़ रुपये जुर्माना ठोका था.

यह भी पढ़ें: छत्तीसगढ़ में भी रोटोमैक के कोठारी का घोटाला

स्रोत: palpalindia.com

सामाजिक नेटवर्क में शेयर:

टिप्पणियां - 0