अभिमनोजः एमपी सहित पांच प्रादेशिक चुनाव, एक और सर्वे का आनंद लें!

१० नवंबर, २०१८ ८:५४ पूर्वाह्न

1 0

इनदिनों. एमपी सहित पांच राज्यों में विधानसभा चुनावों से पहले एक और सर्वे आ गया है. विभिन्न सर्वे के बीच मतदाता असमंजस में हैं, किन्तु सियासी ज्ञानवृद्धि में कोई बुराई नहीं है, लिहाजा सर्वे का आनंद लें!

सी-वोटर के एक ओपिनियन पोल में एमपी में कांग्रेस-भाजपा में कड़ी टक्कर के साथ जीत का पलड़ा कांग्रेस की ओर झुकता नजर आ रहा है, वहीं, राजस्थान में कांग्रेस 145 सीटों के साथ भारी बहुमत की ओर बढ़ती नजर आ रही है.

सी-वोटर... सेंटर फॉर वोटिंग ओपिनियन्स ऐंड ट्रेंड्स इन इलेक्शन रिसर्च ने नवंबर- 2018 के दूसरे हफ्ते में अपने सर्वेक्षण में तेलंगाना में कांग्रेस-टीडीपी को 64 सीटों के साथ स्पष्ट बहुमत मिलने की संभावना व्यक्त की है, वहीं छत्तीसगढ़ में कड़े मुकाबले की बात कही है, अलबत्ता यहां भाजपा के थोड़ा आगे रहने की संभावना व्यक्त की गई है.

याद रहे, एमपी, छत्तीसगढ, मिजोरम, राजस्थान और तेलंगाना में चुनाव 12 नवंबर 2018 से 7 दिसंबर 2018 के बीच होंगे और मतगणना 11 दिसंबर 2018 को होगी. इस सर्वे में राजस्थान में भाजपा को जहां केवल 39.7 प्रतिशत वोट के साथ 45 सीटें मिलने का अनुमान है वहीं, कांग्रेस को 47.9 प्रतिशत वोट मिलने की बात कही गई है.

एमपी में सी-वोटर के पोल में भाजपा को 107 सीटें मिलने का पूर्वानुमान है तो कांग्रेस को 116 सीटों के साथ साधारण बहुमत मिलने की बात है. छत्तीसगढ़ में कड़ी टक्कर का पूर्वानुमान है जसके तहत कांग्रेस को 41 सीटें और भाजपा को 43 सीटें मिलने की संभावना है.

सीएनएक्स के सर्वे पर भरोसा करें तो राजस्थान में कांग्रेस को 115 सीटें और भाजपा को 75 सीटें मिलने की बात है, वहीं सीएसडीएस के सर्वे में कांग्रेस को 110 सीटें और भाजपा को 84 सीटें मिलने की संभावना है. उधर, सीफोर के सर्वे में कांग्रेस को 130 और भाजपा को 65 सीटें मिलने का पूर्वानुमान है.

सीएनएक्स के सर्वे में मध्य प्रदेश में भाजपा को 122 सीटें और कांग्रेस को 95 सीटें मिलने के संकेत है, तो सीएसडीएस ने एमपी में भाजपा को 116 और कांग्रेस को 105 सीटें मिलने की संभावना व्यक्त की है.

छत्तीसगढ़ में सीएनएक्स ने भाजपा को 50, कांग्रेस को 30 तो अन्य को 10 सीटें दी हैं, वहीं सीएसडीएस ने भाजपा को 56, कांग्रेस को 25 तो शेष को नौ सीटें मिलने की संभावना व्यक्त की है.

सर्वे सारांश यही है कि जिसे जो सर्वे सुखद लगे वह खुशी मनाए और जिसे अच्छा नहीं लगे, वह पढ़ कर भूल जाए!

यह भी पढ़ें: राजस्थान कांग्रेस में टिकट बंटवारे पर घमासान

स्रोत: palpalindia.com

श्रेणी पृष्ठ पर

Loading...