किम जोंग उन को भाइयों से ज्यादा बहन पर क्यों है भरोसा?

८ अक्‍तूबर, २०१७ २:०६ अपराह्न

2 0

किम जोंग उन को भाइयों से ज्यादा बहन पर क्यों है भरोसा?

उत्तर कोरिया के शासक किम जोंग उन ने अपनी बहन किम यो जोंग को पार्टी में बड़ी जिम्मेदारी सौंपी है.

उत्तर कोरिया की सरकारी समाचार एजेंसी केसीएनए के अनुसार किम जोंग उन ने शनिवार को पार्टी के वरिष्ठ नेताओं के साथ एक बैठक की.

इस बैठक में किम की छोटी बहन किम यो जोंग को पार्टी के पोलित ब्यूरो का वैकल्पिक सदस्य बनाया गया है. पोलित ब्यूरो के ज़रिए ही किम जोंग उन अपने निर्णायक फैसले लेते हैं.

हाल ही में उत्तर कोरिया के परमाणु कार्यक्रम विस्तार के कारण संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने उस पर कई आर्थिक प्रतिबंध लगाए थे.

दुनिया से अलग-थलग पड़े इस देश की सत्ता 1948 से ही किम परिवार के हाथों में रही है.

किम जोंग उन के पिता किम जोंग इल की पांच पत्नियां थी, उनके कुल सात बच्चे थे.

यह जानना दिलचस्प हो गया है कि आखिरकार किम यो जोंग कौन हैं, जिस पर किम जोंग उन इतना भरोसा जता रहे हैं और उन्हें महत्वपूर्ण जिम्मेदारी भी सौंप रहे हैं.

किम यो जोंग अक्सर अपने भाई किम जोंग उन के साथ उनके फील्ड दौरों पर दिखती रहती हैं. वे पार्टी के प्रचार अभियान में प्रमुखता से शामिल रहती हैं.

किम जोंग उन और किम यो जोंग दोनों एक ही माता-पिता की संतान हैं. उनके पिता किम जोंग-इल और माता किम जोंग-इल की तीसरी पत्नी व कभी नृत्यांगना रहीं को योंग-हुई हैं.

तीन भाई-बहनों में यो जोंग सबसे छोटी हैं, उनसे बड़ा एक भाई और है जिनका नाम किम जोंग चोल है.

यो-जोंग का जन्म 26 सितंबर 1987 को हुआ, उन्हें किम जोंग उन का बहुत करीबी बताया जाता है. किम जोंग उन उनसे चार साल बड़े हैं.

किम यो जोंग ने साल 1996 से लेकर 2000 तक बर्न, स्विट्जरलैंड में पढ़ाई की. इसी दौरान किम जोंग उन भी वहां पढ़ाई कर रहे थे.

बताया जाता है कि यो-जोंग ने अपनी ही पार्टी के सचिव चोए योंग-हे के बेटे से शादी की है.

पार्टी में पोलित ब्यूरो की सदस्य बनने के बाद यो जोंग की जिम्मेदारियां भी बढ़ जाएंगी. अभी तक उनकी प्रमुख जिम्मेदारी अपने भाई किम जोंग उन की छवि को बेहतर बनाने की थी.

उन्होंने साल 2014 से पार्टी के प्रचार विभाग में प्रमुख भूमिका निभानी शुरू कर दी थी.

वे किम जोंग उन की राजनीतिक सलाहकार के तौर पर भी काम करती हैं. वे अपने भाई के यात्रा कार्यक्रमों और उसमें प्रयोग होने वाली सामग्री तक का ध्यान खुद रखती हैं.

यो जोंग पहली बार जनता की नज़रों में तब आईं जब वे साल 2012 में अपने पिता के अंतिम संस्कार में शामिल हुईं, इसके बाद वे साल 2014 में अपने भाई के सत्ता संभालने के मौके पर भी दिखाई दीं.

अक्टूबर 2015 में ऐसी ख़बरें भी सामने आई थीं कि किम जोंग उन ने यो जोंग को प्रचार विभाग से हटा दिया है क्योंकि वे सही तरीके से काम नहीं कर रही हैं.

यो जोंग को मधुभाषी बताया जाता है, वे लोगों से प्रेम पूर्वक मिलती हैं. उनके व्यक्तित्व में टॉम ब्वॉय की छवि भी झलकती है.

हालांकि कुछ रिपोर्ट के अनुसार यो जोंग की परवरिश बहुत ही रोक-टोक वाले माहौल में हुई, किम परिवार के अन्य सदस्य उनके साथ ज्यादा मेल-जोल भी नहीं करते थे.

स्विट्जरलैंड के जिस स्कूल में यो जोंग ने पढ़ाई की, वहां के अधिकारियों के अनुसार स्कूल में भी यो जोंग अधिकतर सुरक्षाबलों से ही घिरी रहती थीं. एक बार उन्हें हल्की सी सर्दी हुई तो उन्हें तुरंत स्कूल से अस्पताल ले जाया गया.

यह देखना दिलचस्प होगा कि यो जोंग अपने भाई के साथ मिलकर इस बड़ी जिम्मेदारी को किस तरह निभाती हैं, और इसका विश्व समुदाय पर क्या असर देखने को मिलता है.

यह भी पढ़ें: 10 दिन में ड्राइविंग में एक्सपर्ट बना रहे मोटर ट्रेनिंग स्कूल

स्रोत: bbc.com

श्रेणी पृष्ठ पर

Loading...