नैट न्यूट्रैलिटी को मिली भारत में मंजूरी

१३ जुलाई, २०१८ ७:२४ पूर्वाह्न

5 0

नैट न्यूट्रैलिटी को मिली भारत में मंजूरी

भारत के दूरसंचार विभाग ने आखिरकार नैट न्यूट्रैलिटी के नियमों को मंजूरी दे दी है, जिसके तहत अब हर किसी को ऑनलाइन सेवाओं पर बराबर का हक मिलेगा और स्पीड को लेकर कोई भेदभाव नहीं किया जा सकेगा. अब नैटवर्क प्रदाता इंटरनैट की सेवाओं में कोई भेदभाव नहीं कर पाएंगे और अगर वे ऐसा करते हैं व यूजर को किसी भी तरह की रुकावट का सामना करना पड़ता है तो इसे गैरकानूनी माना जाएगा और इसके लिए जुर्माना लगने के साथ सख्त कार्रवाई होगी.

प्राथमिकता के आधार पर इस फैसले को मोबाइल ऑपरेटर्स, इंटरनैट प्रोवाइडर्स व सोशल मीडिया कंपनियों सभी पर लागू किया गया है. आपको बता दें कि ट्राई ने कुछ समय पहले नैट न्यूट्रैलिटी की सिफारिश की थी जिसके बाद बुधवार को इस सिफारिश को दूरसंचार आयोग ने मंजूरी दी है.

कुछ महत्वपूर्ण सेवाओं को नैट न्यूट्रैलिटी के नियमों के दायरे से बाहर रखा गया है. इनमें ऑटोनोमस ड्राइविंग, टैली मैडिसिन व रिमोट डायग्नोस्टिक सर्विस शामिल हैं. इन सर्विसेज का उपयोग करने के लिए मौजूदा इंटरनैट स्पीड से तेज़ स्पीड की जरूरत पड़ती है. इसी लिए इन सेवाओं को इस सिस्टम से बाहर रखा गया है.

टैलीकॉम कम्पनियां कुछ वैबसाइट्स की फ्री में सर्विस देकर या इंटरनैट की तेज़ स्पीड देकर अन्य कम्पनियों व वैबसाइट्स का रास्ता बंद करना चाहती हैं. लेकिन अब नैट न्यूट्रैलिटी के आने से इंटरनैट की बराबर स्पीड के साथ सभी यूजर्स को इंटरनैट उपयोग करने का बराबर का मौका मिलेगा.

स्रोत: palpalindia.com

श्रेणी पृष्ठ पर

Loading...