पहाड़ पर बैठी बिजासन माता

१० जून, २०१५ १:०६ अपराह्न

10 0

पहाड़ पर बैठी बिजासन माता

मध्य प्रदेश के सीहोर जिले में सलकनपुर नामक गांव में 800 फुट ऊंची पहाड़ी पर एक मंदिर स्थित है, इस मंदिर में मां दुर्गा का अवतार बिजासन देवी विराजमान हैं. यह मंदिर मप्र की राजधानी भोपाल से 70 किमी की दूरी पर तथा ऐतिहासिक नदी मां नर्मदा के किनारे बसे पावन शहर होशंगाबाद से 35किमी की दूरी पर स्थित है. यहां पर सड़क के रास्ते से पहुंचा जा सकता है. सलकनपुर स्थित इस मंदिर तक पहुंचने के लिये लगभग 1000 से अधिक सीढ़ियों के रास्ते से गुजरना होता है. मंदिर तक जाने के लिये कुछ सालों से चार पहिया वाहनों के लिये सड़क मार्ग भी बना दिया गया है, इससे साढ़े 4 किलोमीटर का रास्ता तय कर मंदिर तक पहुंचा जा सकता है.

यहां पर तीर्थ यात्रियों की सुविधा के लिये रोपवे भी प्रारंभ किया गया है. इसके माध्यम से भी प्रति वर्ष हजारों लोग माता के दर्शन के लिये आते हैं और हजारों श्रद्धालु सीढ़ियों के सहारे भी माता के दर्शन कर आशीर्वाद लेने मंदिर पहुंचते हैं. इस प्राचीन मंदिर में नवरात्र के अवसर पर श्रद्धालुओं की भारी भीड़ रहती हैं. मंदिर की छठा दर्शनीय हैं और माता के दर्शन मात्र से श्रद्धालु भावभिवोर हो जाते हैं.

नवरात्र में इस साल सलकनपुर में बिजासन माता का दरबार कुछ अलग ही नजर आता है. यहां भक्तों को माता का दरबार तो अलग रूप में दिखता है साथ ही उन्हें विशेष सुविधाए भी दी जाती है.

पैदल माता के दरबार तक जाने के लिए पहाड़ी रास्ते को चमचमाते पत्थरों की सीढ़ियों में बदल दिया गया है और दो तरफ के रास्ते बनाए गए हैं. हर तरफ डेढ़ हजार सीढ़ियां बनाई गई हैं. पहाड़ी के रास्ते माता के दरबार के पिछले हिस्से तक पहुंचने वाले रास्ते की सड़क को अच्छा कर दिया गया है. पहले इस रास्ते में कुछ स्थान पर सड़क नहीं थी. वहीं पूरे मार्ग पर सैकड़ों खंभे लगाकर रोशनी की गई है जिनमें सोलर लाइट का भी कुछ स्थानों पर इस्तेमाल किया गया है.

लोगों के ठहरने के लिए धर्मशाला तो मान्यताओं के लिए हाथ छापने की सुविधा और साथिया बनाने के लिए अलग दीवार पर इंतजाम किया गया है. मंदिर परिसर से सलकनपुर के नीचे गांव का नजारा देखने के लिए चारों तरफ फेंसिंग की गई है. मंदिर प्रागंण में संगमरमर लगाया गया जिससे गंदगी को तुरंत साफ किया जा सके.

स्रोत: palpalindia.com

श्रेणी पृष्ठ पर

Loading...