बाबा रामदेव ने राहुल गांधी की तारीफ की, मोदी सरकार के मंत्रियों को कहा अहंकारी

२२ मई, २०१५ ८:४५ पूर्वाह्न

8 0

बाबा रामदेव ने राहुल गांधी की तारीफ की, मोदी सरकार के मंत्रियों को कहा अहंकारी

नई दिल्ली. आमतौर पर केंद्र सरकार की तारीफ करने वाले योग गुरू बाबा रामदेव ने सबको हैरान करने वाला कदम उठाते हुए कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी की प्रशंसा कर डाली, जबकि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सरकार के मंत्रियों पर निशाना साधते हुए उन्हें अहंकारी बता डाला. यही नहीं, रामदेव ने किसानों के मुद्दे पर भी सरकार की खिंचाई की.

मोदी सरकार के 26 मई को एक साल पूरा होने से पहले, एक समाचार चैनल को दिए साक्षात्कार में रामदेव ने हालांकि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तो तारीफ की, लेकिन कहा कि उनके कुछ मंत्री अहंकारी हो गए हैं. सरकार की नीतियों पर कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी द्वारा किए जा रहे हमलों को लेकर पूछे गए सवाल पर उन्होंने कहा कि राहुल ने ऎसा कर लगभग मर चुकी कांग्रेस में जान फूंक दी है. इतना बड़ा राजनैतिक घराना (कांग्रेस) आलस्य में जकड़ गया था. लेकिन, राहुल की सक्रियता से अब वह अपने पैरों पर फिर खड़ी हो गई है.

रामदेव ने कहा कि कांग्रेस विकास और किसानों के मुद्दों पर केंद्र सरकार को घेरने में सफल हो गई है. अब सरकार पर निर्भर करता है कि वह किसानों का भरोसा पुन: जीतने के लिए उनकी समस्याओं का समाधान तुरंत करे. साथ ही नई किसान नीति पर भी विचार करना होगा.

रामदेव ने कहा कि भूमि अधिग्रहण का मुद्दा कुछ इलाकों में ही प्रासंगिक है. बड़ी सोच के नजरिए से देखा जाए तो मुख्य तौर पर किसानों को बिजली, खाद और फसलों की सही कीमत चाहिए होती है. यह दुख की बात है कि किसानों को अकुशल मजदूरो की तरह देखा जाता है.

केंद्र सरकार को राहुल गांधी द्वारा सूट-बूट की सरका कहने को लेकर पूछे गए सवाल पर रामदेव ने कहा कि क्या सूट-बूट पहनने से कोई अपराधी बन जाता है क्या. उन्होंने आगे कहा कि सरकार को इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि भाजपा की सफलता में अहम योगदान निभाने वाले दलितों को पार्टी में सही प्रतिनिधित्व मिले.

रामदेव से पूछा गया कि मोदी सरकार में लोग अहंकारी हो गए हैं, तो इसपर योग गुरू ने कहा कि सत्ता में आने के बाद सभी राजनैतिक दलों के नेता फोन नंबर बदलकर पहुंच से दूर हो जाते हैं. प्रधानमंत्री मोदी, अरूण जेटली और अमित शाह को छोड़कर अधिकतर लोगों ने अपने नंबर बदल लिए हैं. यह सही नहीं है. बल्कि उन्हें लोगों की सही समस्याओं को दूर करना चाहिए. उन्हें अपना काम दिखाना होगा. कुछ लोग अहंकारी हो गए हैं. इस समस्या को तुरंत ठीक करना होगा. उन्हें समझना चाहिए कि अगली बार वोट मांगने के लिए जनता के पास ही जाना है.

स्रोत: palpalindia.com

श्रेणी पृष्ठ पर

Loading...