बाल और त्वचा दोनों पर पड़ता है तनाव का असर

२५ जुलाई, २०१५ ९:४० पूर्वाह्न

1 0

बाल और त्वचा दोनों पर पड़ता है तनाव का असर

-मुंहासे: हमारी त्वचा और मस्तिष्क में गहरा संबंध है. जिस क्षण तनाव वाले हार्मोन निकलते हैं, त्वचा में तेल की मात्रा बढ़ जाती है जिस वजह से मुंहासे हो जाते हैं.

-बाल झड़ना: तनाव के चलते रक्त कोशिकाएं सिकुड़ जाती हैं जिससे बालों की जड़ों को अपने विकास के लिए पर्याप्त ऑक्सीजन एवं अन्य जरूरी पोषक तत्व नहीं मिल पाते. अवसाद ग्रस्त लोग आमतौर पर पोषक तत्वों के अभाव में बाल गिरने की समस्या से जूझते हैं.

-बढ़िया सी मसाज कराएं: यह आपके शरीर को आराम देने और अवरुद्ध ऊर्जा तंत्रिकाओं को खोलने में मदद करेगी.

-व्यायाम करें: कसरत आपको प्रेरित करती है और आपका मूड ठीक करती है. यह आपको ऊर्जावान बनाने में मदद करती है. व्यायाम स्वस्थ काया की कुंजी है.

-रोजाना 15-20 मिनट ध्यान लगाएं: ध्यान सुविधानुसार किसी भी समय और जगह पर लगाया जा सकता है. एकांत में शांति से बैठकर आप अपने विचारों पर ध्यान दे सकते हैं. इससे तनाव भगाने में मदद होगी.

-नियमित अंतराल पर पौष्टिक खाना खाएं: बादाम, जामुन और सैमन (मछली की किस्म) तनाव दूर करने में सहायक हैं.

-आठ घंटे की नींद जरूरी: नींद की कमी से खीझ और चिड़चिड़ापन होता है. तनाव भगाने के लिए नींद से बेहतर कुछ नहीं हो सकता.

अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें. आप दिल्ली आजतक को भी फॉलो कर सकते हैं.

For latest news and analysis in English, follow IndiaToday.in on Facebook.

स्रोत: aajtak.intoday.in

श्रेणी पृष्ठ पर

Loading...