भाजपा जिसे चाहे मुख्यमंत्री बना दे, लोजपा उसे स्वीकार करेगीः पासवान

११ जून, २०१५ ५:५९ अपराह्न

3 0

पटना: केंद्रीय खाद्य एवं जनवितरण मंत्री और राजग के घटक दल लोजपा प्रमुख रामविलास पासवान ने आज मुख्यमंत्री पद की दौड में स्वयं या अपनी पार्टी से किसी के होने से इंकार करते हुए आज कहा कि घटक के सबसे बडे दल के रुप में भाजपा जिसको चाहे वह उसे इस पद के लिए उम्मीदवार बना सकता है जो कि उन्हें और उनकी पार्टी को स्वीकार्य होगा.

नरेंद्र मोदी सरकार के एक वर्ष पूरे होने के अवसर आज यहां आयोजित केंद्रीय राज्य मंत्री रामकृपाल यादव एवं गिरीराज सिंह, बिहार विधान परिषद में भाजपा विधायक दल के नेता सुशील कुमार मोदी, लोजपा के प्रदेश अध्यक्ष पशुपति कुमार पारस और पार्टी सांसद चिराग पासवान की उपस्थिति में एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए रामविलास ने राजग में मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार के बारे में कहा कि वे स्वयं या उनकी पार्टी से किसी के होने से इंकार करते हुए आज कहा कि घटक के सबसे बडे दल के रुप में भाजपा जिसको चाहे वह उसे इस पद के लिए उम्मीदवार बना सकता है जो कि उन्हें और उनकी पार्टी को स्वीकार्य होगा.

जदयू नीत धर्मनिरपेक्ष गठबंधन के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के अपने गठबंधन का मुख्यमंत्री पद के लिए पेश किए जाने के बाद राजद सुप्रीमों लालू प्रसाद के भाजपा को अपना मुख्यमंत्री पद का चेहरा पेश किए जाने की चुनौती दिए जाने के बारे में पूछे जाने पर रामविलास ने कहा कि क्या वे हमें निर्देशित करेंगे. लालू जी क्यों कह रहे हैं हमको जहर पीना पडा. कौन नीतीश कुमार जहर हैं. जहर पीकर उनके साथ गए हैं.

लालू और नीतीश के बीच हुए गठबंधन को नीम और करेला के एक साथ होने का आरोप लगाते हुए रामविलास ने कहा, नीतीश कुमार के बारे में पहले लालू जी कहते थे हमारे पांव पर आकर गिर गया तो क्या वे अपने पांव को काटकर फेंक दें. यह कबतक चलने वाला है दोनों के हाथ खंजर है और गले मिल रहे हैं.

रामविलास पासवान ने कहा कि लालू प्रसाद को यह बताना चाहिए पिछले लोकसभा चुनाव में उनके द्वारा चुनौती दिए जाने के बावजूद उनकी पत्नी राबडी देवी और पुत्री मीसा भारती क्यों हार गयी. उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार ने पिछले लोकसभा चुनाव में नरेंद्र मोदी जी को चुनौती दी थी पर वे आज कहां (प्रधानमंत्री पद पर) आसीन हैं और नीतीश कहां (मुख्यमंत्री पद पर) बैठे हुए हैं. चुनौती देने से क्या होता है.

रामविलास ने अपने पूर्व के बयान कि जनता परिवार का विलय नहीं, राजद-जदयू के बीच गठबंधन नहीं और उनके बीच बिहार विधानसभा चुनाव आते-आते लठबंधन होने को दोहराते हुए कहा कि यह गठबंधनह्ण अब शुरु होने वाला है.

बिहार विधानसभा चुनाव को लेकर जदयू-राजद के बीच हुए गठबंधन के बारे में पूछे जाने पर रामविलास ने कहा कि इसकी हकीकत राजद उपाध्यक्ष रघुवंश प्रसाद सिंह बता देंगे. लालू के मुख्यमंत्री पद से स्वयं और अपने परिवार के किसी अन्य के उम्मीदवार नहीं होने के बयान के बारे में पूछे जाने पर रामविलास ने कहा कि लालू जी स्वयं सजायाफ्ता (चारा घोटाला मामला) हैं ऐसे में वे कैसे इस पद के उम्मीदवार हो सकते हैं.

राजद और जदयू में अन्य के मुख्यमंत्री पद के लायक होने के बारे में पूछे जाने पर रामविलास ने कहा कि अब्दुल बारी सिद्दीकी स्वयं को उसके काबिल बताया है और रघुवंश प्रसाद सिंह तथा रमई राम क्यांे आवाज बुलंद कर रहे हैं.

नीतीश कुमार के अपने नाम की ब्रांडिंग किए जाने के बारे में पूछे जाने पर रामविलास ने कहा कि वे अपने साथ क्या किसी का फोटो लगाने दे रहे हैं. पिछले लोकसभा चुनाव में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और उपाध्यक्ष राहुल गांधी तथा नीतीश कुमार ने लालू के साथ मंच साझा नहीं किए जो कि ह्यमान न मान मैं तेरा मेहमान को चिरितार्थ करता है.

उन्होंने कहा कि लालू जी अकेले स्वयं को बडा और कद्दावर नेता मानते थे तो क्यों वे नीतीश कुमार की शरण में चले गए.

यह भी पढ़ें: आतंकी हाफिज सईद की पार्टी लड़ेगी 2018 का Election

स्रोत: prabhatkhabar.com

श्रेणी पृष्ठ पर

Loading...