भारत इस बार कितने पदक लाएगा?

१० अगस्त, २०१५ ३:४४ पूर्वाह्न

26 0

भारत इस बार कितने पदक लाएगा?

इंडोनेशिया की राजधानी जकार्ता शहर में सोमवार से विश्व बैडमिंटन चैंपियनशिप शुरू होने जा रही है जिसमें भारत भी अपनी चुनौती पेश करेगा.

इस चैंपियनशिप में पुरुष एकल वर्ग में चीन के लोंग चेन को शीर्ष वरीयता दी गई है जबकि महिला एकल वर्ग में स्पेन की करोलीन मरीन को पहली वरीयता दी गई है.

महिला एकल वर्ग में लंदन ओलंपिक की कांस्य पदक विजेता साइना नेहवाल को दूसरी वरीयता दी गई है.

साइना नेहवाल से उम्मीदों को लेकर इन दिनों उनके कोच और भारत के पूर्व जाने-माने बैडमिंटन खिलाड़ी विमल कुमार मानते हैं कि यह उस दिन के खेल पर निर्भर करेगा कि साइना कैसा खेलती हैं.

विमल कुमार कहते हैं कि बीते एक महीने में साइना ने कड़ी मेहनत की है. इस मुक़ाबले में उनका ड्रॉ आसान नहीं है.

अंतिम सोलह में उनका सामना जापान की नंबर एक खिलाड़ी सायका ताकाहाशी से हो सकता है. इसके अलावा एशियन चैंपियन चीन की वान यिहान भी उन्हें चुनौती देंगी.

महिला एकल वर्ग में ही विश्व चैंपियनशिप में 2013 और 2014 में लगातार दो बार कांस्य पदक जीतकर एक नया इतिहास बना चुकी भारत की ही पीवी सिंधू को ग्यारहवीं वरीयता दी गई है.

पीवी सिंधू पिछले कुछ समय से एड़ी की चोट से जूझती रही है और कोई बड़ा टूर्नामेंट उन्होंने नहीं जीता है. सिंधू को लेकर विमल कुमार कहते हैं कि उनका ड्रॉ भी बेहद कठिन है.

अंतिम सोलह में सिंधू को तीसरी वरीयता हासिल चीन की ली ज्यू रूई से सामना करना पड़ेगा. शुरुआती दो मैच उनके लिए आसान होंगे लेकिन बाद में संघर्ष करना पड़ेगा.

विश्व चैंपियनशिप में महिला युगल वर्ग में कांस्य पदक जीतने वाली भारत की इकलौती जोड़ी ज्वाला गुट्टा और अश्विनी पोनप्पा को 13वीं वरीयता दी गई है.

पिछले एक साल से लगातार ख़राब फॉर्म से जूझने के बाद आख़िरकार इस जोड़ी ने पिछले दिनों कनाडा ओपन जीता.

पुरुष एकल वर्ग में चाइना ओपन जीतकर तहलका मचा चुके भारतीय खिलाड़ी के श्रीकांत को तीसरी वरीयता दी गई है. उनकी पहली भिड़ंत मंगलवार को ऑस्ट्रेलिया के मिचेल फरीमन से होगी.

ग्लास्गो राष्ट्रमंडल खेलों के स्वर्ण पदक विजेता पी कश्यप को विश्व चैंपियनशिप में 10वीं वरीयता दी गई है.

सोमवार को उनका सामना नीदरलैंड्स के एरीक मिजस से होगा. उन्होंने उम्मीद जताई है कि पिछले एक महिने की मेहनत अब रंग लाएगी.

इनके अलावा पुरुष युगल वर्ग में भारत के प्रणय जेरी चोपड़ा और अक्षय दिवालकर, मिश्रित युगल में तरुण कोना और एन सिकी रेड्डी, पुरुष एकल वर्ग में एचएस प्रणय भी अपना दावा पेश करेंगे.

कुल मिलाकर फिटनेस और फॉर्म को देखते हुए विश्व चैंपियनशिप में इस बार पदक के लिए भारतीय खिलाड़ियों को जी-जान एक करना होगा.

यह भी पढ़ें: सलमान को पापा सलीम बोले 'भटको मत, गर्लफ्रेंड्स को घर लाओ'

स्रोत: bbc.com

श्रेणी पृष्ठ पर

Loading...