महारानी के महल पर महाभारत शुरू?

३० जून, २०१५ ११:०१ पूर्वाह्न

3 0

महारानी के महल पर महाभारत शुरू?

नई दिल्ली: ललित मोदी विवाद में कांग्रेस ने आज फिर वसुंधरा राजे पर हमला बोला है. कांग्रेस ने दस्तावेजों के हवाले से दावा किया है कि बेटे दुष्यंत सिंह धौलपुर महल के हकदार नहीं है. कांग्रेस ने सरकारी जमीन पर 2 करोड़ का मुआवजा लेने का भी आरोप लगाया है.

कांग्रेस नेता जयराम रमेश ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर दावा किया जब तक प्रधानमंत्री वसुंधरा को नहीं हटाते तब तक खुलासे होते रहेंगे. जयराम रमेश ने तो पीएम को कुंभकर्ण तक कह दिया. राजस्थान बीजेपी ने दावा किया है कि आरोपों में कोई सच्चाई नहीं है. हमारे पास सारे दस्तावेज हैं. 1956 में पैलेस सरकार ने दिया.

एक दिन पहले पीएम मोदी को स्वामी मौनेंद्र कहने वाली कांग्रेस ने अब उन्हें कुंभकर्ण की संज्ञा दी है. कांग्रेस वसुंधरा राजे को हटाने की मांग करते हुए रोज नए खुलासे करने का दावा कर रही है. धौलपुर महल के सरकारी संपत्ति होने के पक्ष में कांग्रेस ने चार सूबत पेश करने का दावा किया.

1949 का एक दस्तावेज. जिसमें राजा उदयभान सिंह ने धौलपुर हाउस को सरकार को सौंपते हुए रखरखाव का जिम्मा अपने पास रखा था.

कांग्रेस का आरोप है कि 2010 में महल की कुछ जमीन हाईवे बनाने के लिए ली गई तब दुष्यंत ने दो करोड़ का मुआवजा ले लिया. जबकि जबकि 2010 की जमाबंदी कहती है कि ये जमीन सरकारी है.

2013 में धौलपुर के दो लोगों ने दुष्यंत के मुआवजा लेने की शिकायत सीबीआई से की थी जिसकी जांच हो रही है.

साल 2007 में वसुंधरा के पति हेमंत सिंह और बेटे दुष्यंत सिंह में भरतपुर कोर्ट में समझौता हुआ था कि चल संपत्ति पर ही दुष्य़ंत का हक होगा. यानी धौलपुर महल अचल संपत्ति है जिस पर दुष्यंत का न तो हक है और ना ही दावा बनता है. सोमवार को बीजेपी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर दावा किया था कि हेमंत सिंह ने दुष्यंत को महल सौंपा था.

यह भी पढ़ें: राहुल गांधी का पीएम मोदी पर हमला, बोले- मोदी जी छिपिए मत, संसद खोलिए

स्रोत: abpnews.abplive.in

श्रेणी पृष्ठ पर

Loading...