माता पिता की उम्र में फासला ज्यादा, तो बच्चों में ऑटिज्म का खतरा

१५ जून, २०१५ ६:५९ अपराह्न

3 0

माता पिता की उम्र में फासला ज्यादा, तो बच्चों में ऑटिज्म का खतरा

इस अध्ययन के तहत पांच देशों में 57 लाख बच्चों को शामिल किया गया. इसमें उम्रदराज माता-पिता और किशोर माता-पिता के बच्चों में ऑटिज्म का ज्यादा खतरा पाया गया. न्यूयॉर्क के माउंट सिनाई स्थित इकान स्कूल ऑफ मेडिसिन से संबद्ध महामारी विशेषज्ञ स्वेन सांडिन ने बताया कि हालांकि माता पिता की उम्र ऑटिज्म के लिए एक वजह है इसलिए यह याद रखना जरूरी है. पर उम्रदराज या कम उम्र के माता पिता से जन्मे बच्चे सामान्य रूप से विकसित होते हैं.

अध्ययनकर्ताओं के मुताबिक 50 साल से ज्यादा उम्र के पिता से जन्में बच्चों में ऑटिज्म की दर 66 फीसदी अधिक पाई गई जबकि 20 से 30 साल के पिता के बच्चों की तुलना में 40 से 50 साल के पिता के बच्चों में 28 फीसदी अधिक पाई गई. उन्होंने यह भी पाया कि 20 से 30 साल के बीच की माताओं की तुलना में किशोर माताओं से जन्मे बच्चों में ऑटिज्म की दर 18 प्रतिशत ज्यादा पाई गई.

20 से 30 साल की उम्र वाली माताओं की तुलना में 40 से 50 साल के बीच माताओं से जन्मे बच्चों में ऑटिज्म की दर 15 फीसदी ज्यादा पाई गई. अध्ययन में यह भी पाया गया कि माता पिता की उम्र में अंतर बढ़ने के साथ साथ ऑटिज्म की दर में भी वृद्धि पाई गई.

35 से 44 साल के पिता में और माता पिता के उम्र अंतराल में 10 साल या इससे अधिक अंतर होने पर इसकी दर सर्वाधिक है. वहीं, 50 साल से अधिक के पिता से जन्मे बच्चों में यह जोखिम अधिक है.

अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें. आप दिल्ली आजतक को भी फॉलो कर सकते हैं.

For latest news and analysis in English, follow IndiaToday.in on Facebook.

स्रोत: aajtak.intoday.in

श्रेणी पृष्ठ पर

Loading...