राम मनोहर लोहिया अवध यूनिवर्सिटी ने कहा, दिल्ली के पूर्व कानून मंत्री जितेंद्र सिंह तोमर की डिग्री फर्जी

१० जून, २०१५ १:०२ अपराह्न

6 0

राम मनोहर लोहिया अवध यूनिवर्सिटी ने कहा, दिल्ली के पूर्व कानून मंत्री जितेंद्र सिंह तोमर की डिग्री फर्जी

उत्तर प्रदेश के फैजाबाद में राम मनोहर लोहिया अवध यूनिवर्सिटी ने कहा की दिल्ली के पूर्व कानून मंत्री जितेंद्र सिंह तोमर की डिग्री फर्जी है.

यूनिवर्सिटी ने कहा कि तोमर की बीएससी की मार्कशीट और डिग्री फर्जी है. इसके पहले भागलपुर यूनिवर्सिटी ने भी उनकी डिग्री को फर्जी करार दिया है. इसके पहले तोमर को पुलिस लखनऊ एक्सप्रेस से उत्तर प्रदेश ले गयी. आज पुलिस तोमर को लेकर फैजाबाद पहुंची.

मिली जानकारी के अनुसार उन्हें अवध यूनिवर्सिटी के रजिस्ट्रार एस एल मौर्या के सामने पेश किया गया है, जहां उनकी डिग्रियों और दस्तावेजों की जांच-पड़ताल के लिए पूछताछ की गयी.

तोमर चार दिनों की रिमांड पर हैं और समझा जा रहा है कि इन्हीं चार दिनों के अंदर दिल्ली पुलिस उन्हें पूछताछ के लिए फैजाबाद के अलावा भागलपुर, मुंगेर और बुंदेलखंड भी ले जा सकती है.

तोमर के वकील ने उनकी जमानत के लिए सेशंस कोर्ट का रुख किया हालांकि उनकी अर्जी को कोर्ट ने ठुकरा दिया है जिस कारण तोमर की अर्जी की सुनवाई आज नहीं हो सकी. उनकी अर्जी पर कल सुनवाई संभव है.

इधर दिल्ली पुलिस के पीआरओ रंजन भगत ने बताया कि तोमर को बिहार भी ले जाया जायेगा, लेकिन कब व कैसे ले जाया जायेगा, यह अभी तय नहीं है. इधर, कई अन्य मुद्दों पर चर्चा के लिए दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल आज उपराज्यपाल नजीब जंग से मुलाकात करेंगे.

उन्होंने कहा कि दिल्ली पुलिस का केस आरटीआइ के जरिये हासिल की गयी सूचना पर आधारित है. आरटीआई में जिस रोल नंबर का जिक्र था, वह जितेंद्र तोमर का नहीं था. लेकिन, कोर्ट ने उनकी यह दलील नहीं मानी. इसके पहले दिल्ली पुलिस ने आप के नेता को उनके घर से गिरफ्तार किया. पुलिस तोमर को हौजखास थाने ले गयी.

तोमर को ऐसे समय पर गिरफ्तार किया गया है, जब दिल्ली में शक्तियों को लेकर आप सरकार और उपराज्यपाल नजीब जंग के बीच पहले ही तनातनी चल रही है. तोमर का दावा है कि उन्होंने बिहार के तिलका मांझी भागलपुर विश्वविद्यालय से कानून की डिग्री प्राप्त की है, जबकि दूसरे पक्ष का आरोप है कि यह डिग्री फर्जी है.

आप सरकार ने आज केंद्र पर आरोप लगाया कि सीएनजी फिटनेस घोटाले की जांच फिर से खोले जाने के कारण वह अपने तानाशाही कृत्यों से आपातकाल जैसी स्थिति पैदा कर रही है. मोदी सरकार हमें डरा रही है, लेकिन हम डरने वाले नहीं हैं. संबंधित विश्वविद्यालय ने अदालत में यह बयान भी दर्ज किया है कि डिग्री सही है. तो फिर उन्हें गिरफ्तार क्यों किया गया.

स्रोत: samaylive.com

श्रेणी पृष्ठ पर

Loading...