वार्ड नंबर तीन में सप्लाई वाटर महज नाम का, सीवरेज की वजह से सड़कों पर चलना मुश्किल

१४ मार्च, २०१८ ६:४४ पूर्वाह्न

67 0

वार्ड नंबर तीन में सप्लाई वाटर महज नाम का, सीवरेज की वजह से सड़कों पर चलना मुश्किल

Ranchi : वार्ड नंबर तीन के एदलहातू और सिंदवार टोला में लोग पीने के पानी के लिए तरस रहे हैं. इन्हें अपनी जरुरत का पानी दो से तीन किलोमिटर दूर से लाना पड़ता है. इनकी यह समास्या कई सालों से हैं. लोगों का कहना है कि इसी वार्ड से रांची की मेयर आशा लकड़ा भी आती हैं, लेकिन फिर भी समास्याओं का हल नहीं हो रहा है.. लोग फरियाद और अनुरोध कर अब थक चुके हैं. कहते हैं कि इस बार के चुनाव में सभी समास्याओं के हल के बाद ही वोट डालेंगे.

वार्ड नंबर तीन के एदलहातू के रहने वाले लोगों का कहना है कि यहां पानी की बड़ी समास्या है. यहां ना ही बोरिंग वाटर का कोई साधन है और ना ही निगम का पानी टैंकर आता है. सार्वजानिक शौचालय भी इस इलाकें में कहीं नहीं बना हुआ है. अजीत कुमार ने कहा कि यहां स्पलाई वाटर की पाइप तो बिछी हुई है, पर पानी 15 दिनों में एक बार ही आता है और वह भी रात के 12 बजे आता है. पार्षद को इस समस्या से अवगत कराया जा चुका है, फिर भी निदान के लिये अभी तक कुछ भी नहीं किया है. जगह-जगह कोड़ी हुई सड़कों पर मो. जान अंसारी कहते हैं कि बरसात में अगर सड़क नहीं बनी, तो लोगों का चलना मुश्किल हो जायेगा. क्योंकि उख्खड़-खाबड़ सड़कों पर चलना अभी ही मुश्किल हो रहा है. सुजीत कुमार और मो इरफान का कहना है कि सिवरेज बिछाने के बहाने अच्छी-खासी सड़कों को बर्बाद कर दिया गया है. वहीं अब कहते हैं कि इसे बनाने में एक साल लग जायेगा. सिंदवार टोला निवासी सुरेंद्र मुंडा कहते हैं कि हमलोगों को दो किलोमीटर दूर से पानी लाना पड़ता है. इस बार का चुनाव में वोट तभी डालेंगे, जब इन समास्याओं का हल होगा.

वार्ड तीन की पार्षद बसंती देवी ने कहा कि सड़क की समास्या सीवरेज की वजह से हो रही है. उन्होंने कहा कि जिस कंपनी ने जिम्मा लिया है उसका कहना है कि एक साल में काम पुरा कर लिया जायेगा. नगर विकास मंत्री ने सीवरेज का काम कर रही कंपनी को छह माह का अतिरिक्त समय भी दिया था. लेकिन फिर भी दो साल के बाद भी कंपनी काम पूरा नहीं कर पायी है. कंपनी ने पूरी सड़क को जगह-जगह कोड़ कर छोड़ दिया है. वहीं पार्षद ने पानी की समस्या पर कहा कि इस मुद्दे को बोर्ड की बैठक में भी उठाया गया था. पीएचडी विभाग से लेकर विभागीय मंत्री तक इस बात की पहल कर चुकी हूं. मोरहाबादी में एकमात्र जलमीनार है जिससे चीरौंदी, मोरहाबादी, एदलहातू और नीचे बस्ती तक जलापूर्ति होती है. साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि इसपर मेयर और नगर आयुक्त को पत्र लिखकर दे चुकी हूं लेकिन कोई सुनवाई नहीं हो पायी है.

स्रोत: newswing.com

श्रेणी पृष्ठ पर

Loading...