‘स्टैचू ऑफ यूनिटी’ में इस्तेमाल नहीं होगा देशभर के किसानों द्वारा भेजा लोहा

२५ मई, २०१५ ११:०१ पूर्वाह्न

18 0

‘स्टैचू ऑफ यूनिटी’ में इस्तेमाल नहीं होगा देशभर के किसानों द्वारा भेजा लोहा

वडोदरा. गुजरात के वडोदरा में बनने वाली सरदार वल्लभ भाई पटेल की प्रतिमा ‘स्टैचू ऑफ यूनिटी’ में उस लोहे के इस्तेमाल होने की संभावना नहीं है जो देशभर के किसानों द्वारा इसके निर्माण के लिए भेजा गया है. इसका निर्माण करने वाली एजेंसी का कहना है कि देशभर से मिले लोहे की क्वालिटी उतनी अच्छी नहीं है जितनी इसके निर्माण के लिए होनी चाहिए. हालांकि इस लोहे का इस्तेमाल एक अन्य स्मारक बनाने के लिए किया जाएगा. यह स्मारक ‘स्टैचू ऑफ यूनिटी’ के करीब ही बनाया जाएगा.

ये बताया कारण संघवी के अनुसार, ‘हम देशभर से प्राप्त लोहे का इस्तेमाल मुख्य प्रतिमा में नहीं कर सकते क्योंकि इसकी क्वालिटी को लेकर हम संतुष्ट नहीं हैं. फिर भी अगर ऐसा करना ही पड़ा तो इसके लिए लंबा टेक्निकल प्रोसेस फॉलो करना पड़ेगा. लेकिन लोगों की भावनाओं का सम्मान करने के लिए एक अलग स्ट्रक्चर या आर्ट वर्क जरूर तैयार किया जा सकता है. हालांकि यह कैसा और क्या होगा इस पर फैसला नहीं लिया गया है. मेन स्टैचू के लिए सबसे अच्छी क्वालिटी का लोहा ही इस्तेमाल किया जाएगा.’ पटेल की इस प्रतिमा के लिए देशभर से 1,69,078 आयरन किट्स मिल चुकी हैं और हर किट में 700 ग्राम लोहा है. प्राप्त किए गए लोहे का वडोदरा के करीब छानी नामक स्थान पर रखा गया है.

कैसी होगी स्टैचू ऑफ यूनिटी - स्टैचू ऑफ यूनिटी की ऊंचाई 182 मीटर होगी. - अमेरिका की स्टैचू ऑफ लिबर्टी से तीन गुनी ऊंची होगी. - नर्मदा बांध के नजारे देखने के लिए 450 फुट ऊंचाई पर विजटिंग गैलरी भी बनेगी. - स्टैचू भूकंप रोधी होगी. यह मौसम की मार से बेअसर रहेगी. - यात्रियों को स्टैचू तक लाने के लिए फेरी (बोट) सर्विस की सुविधा होगी.

स्रोत: palpalindia.com

श्रेणी पृष्ठ पर

Loading...