हार के बाद धोनी ने कप्तानी छोड़ने के दिए संकेत, कहा- टीम मेंबर की तरह खेलने को तैयार

२२ जून, २०१५ १:४३ पूर्वाह्न

10 0

नई दिल्ली: बांग्लादेश से सीरीज और मैच दोनों हारने के बाद टीम इंडिया के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने बड़ा बयान दिया है. धोनी ने टीम इंडिया की कप्तानी छोड़ने के संकेत दिए हैं.

धोनी ने आगे कहा, 'मेरे बिना अगर टीम अच्छा खेलती तो बोर्ड मुझे कप्तानी से हटा सकता है. मैं टीम में बिना कप्तानी के भी खेल सकता हूं. मैं एक नॉर्मल खिलाड़ी की तरह खेलने के लिए तैयार हूं.

मुस्ताफिजुर रहमान (43/6) की शानदार गेंदबाजी और शाकिब हल हसन (51 नाबाद) की धैर्यपूर्ण पारी की बदौलत बांग्लादेश ने रविवार को शेर-ए-बांग्ला स्टेडियम में खेले गए दूसरे एकदिवसीय मैच में भारत को छह विकेट से हरा दिया. इसके साथ ही मेजबान टीम ने तीन मैचों की श्रृंखला में 2-0 की अपराजित बढ़त भी प्राप्त कर ली है. भारत को पहली बार बांग्लादेश के खिलाफ किसी एकदिवसीय श्रृंखला में हार का सामना करना पड़ा है.

वर्षा से बाधित इस मैच में मेजबान बांग्लदेश को 47 ओवरों में 199 रनों का संशोधित लक्ष्य मिला था जिसे टीम ने 38 ओवरों में केवल चार विकेट खोकर हासिल किया.

हरफनमौला खिलाड़ी शाकिब ने 62 गेंदों की नाबाद पारी में पांच चौके लगाए. सब्बीर रहमान भी 22 रनों के साथ नाबाद लौटे.

टीम की जीत में हालांकि सबसे अहम भूमिका 'मैन ऑफ द मैच' चुने गए बांग्लादेश के तेज गेंदबाज मुस्ताफिजुर रहमान ने निभाई. पहले एकदिवसीय में पांच विकेट चटकाने वाले मुस्ताफिजुर ने यहां भी छह विकेट हासिल किए जिसकी बदौलत भारतीय टीम पहले बल्लेबाजी करते हुए 45 ओवरों में 200 रनों पर सिमट गई.

बहरहाल, लक्ष्य का पीछा करने उतरे बांग्लादेश के सलामी बल्लेबाज तमीम इकबाल (13) और सौम्य सरकार (34) ने तेज शुरुआत की 6.2 ओवर में पहला विकेट गिरने के समय तक मेजबान टीम 34 रन बना चुकी थी. धवल कुलकर्णी ने तमीम को धवन के हाथों कैच कराकर भारत को पहली सफलता दिलाई.

विकेट गिरने का असर बांग्लादेश की रनगति पर नहीं दिखा और तीसरे क्रम पर बल्लेबाजी करने उतरे लिटन दास (36) ने भी सौम्य के साथ तेजी से रन बटोरना जारी रखा. दोनों ने दूसरे विकेट के लिए 62 गेंदों में 52 रन जोड़े. रविचंद्रन अश्विन द्वारा सौम्य को 17वें ओवर में पवेलियन भेजने के कुछ देर बाद लिटन दास भी अक्षर पटेल का शिकार हुए और ऐसा लगा कि भारतीय टीम यहां से वापसी कर सकती है.

मुशफिकुर रहीम (31), शाकिब तथा सब्बीर की महत्वूर्ण पारियों ने हालांकि बांग्लादेश के प्रशंसकों के माथे पर शिकन नहीं आने दी. सौम्य ने 47 गेंदों की पारी में दो चौके और एक छक्का जमाया.

इससे पूर्व, भारतीय टीम टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करते हुए 45 ओवर में केवल 200 रन बनाकर सिमट गई. डकवर्थ लुइस नियम के अनुसार हालांकि बांग्लादेश को 199 रनों का संशोधित लक्ष्य मिला.

पहले मैच के हीरो रहे बांग्लादेश के मुस्ताफिजुर (43/6) की उम्दा गेंदबाजी ने मजबूत भारतीय बल्लेबाजी को एक बार फिर धराशायी किया. नासिर हुसैन और रुबेल हुसैन ने दो-दो विकेट हासिल किए.

बारिश के कारण मैच को 43.5 ओवर के खेल के बाद रोकना पड़ा और इससे डेढ़ घंटे से भी ज्यादा का समय बर्बाद हुआ. बारिश के कारण जाया हुए समय की भरपाई के कारण इस मैच को प्रति पारी 47 ओवरों का निर्धारित किया गया.

भारत की शुरुआत खराब रही. पारी की दूसरी ही गेंद पर मुस्ताफिजुर ने रोहित शर्मा को सब्बीर हुसैन के हाथों कैच करा कर मेजबान मेजबान टीम को सनसनीखेज शुरुआत दिलाई. इसके बाद शिखर धवन (53) और विराट कोहली (23) ने मिलकर भारतीय पारी को संवारने की कोशिश की और दूसरे विकेट के लिए 74 रन जोड़ने में कामयाब रहे.

नासिर हुसैन ने यहां कोहली को पगबाधा कर भारत को दूसरा झटका दिया. कोहली ने 27 गेंदों में तीन चौके और एक छक्का लगाया. भारतीय पारी के 21वें ओवर में हुसैन ने धवन को भी विकेटकीपर लिटन दास के हाथों कैच कराया. धवन ने 60 गेंदों की पारी में सात चौके लगाए.

अगले ही ओवर में रुबेल हुसैन ने अंबाती रायडू (0) को पवेलियन भेज भारत को चौथा झटका दिया. चार विकेट 110 रनों पर गिरने के बाद भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धौनी (47) और सुरेश रैना (34) ने भारतीय पारी को आगे बढ़ाना शुरू किया लेकिन मुस्ताफिजुर एक बार फिर भारतीय टीम के लिए खलनायक बन कर उभरे.

रैना 36वें ओवर में मुस्ताफिजुर की गेंद पर लिटन दास को थमा बैठे. इसके बाद धौनी भी मुस्ताफिजुर के शिकार हुए. रैना ने 55 गेंदों में तीन चौके लगाए. धौनी ने भी 75 गेंदों की पारी में केवल चार चौके जमाए. लंबे अर्से से खराब फॉर्म में चल रहे रवींद्र जडेजा ने भी निराश किया और 19 रनों का योगदान दिया. भारत के आखिरी पांच विकेट केवल 26 रनों के अंदर गिरे.

स्रोत: abpnews.abplive.in

श्रेणी पृष्ठ पर

Loading...