NIA अदालत का आदेश, जाकिर नाईक की चार संपत्तियां कुर्क की जाएं

१२ अक्‍तूबर, २०१८ १:२९ अपराह्न

1 0

विशेष NIA अदालत ने विवादित धर्मगुरु जाकिर नाईक की मुंबई स्थित चार संपत्तियां कुर्क करने का आदेश दिया है. नाईक पर आतंकवाद रोधी कानून के तहत मामला दर्ज है.

52 साल के नाईक पर दो साल पहले गैर-कानूनी गतिविधि रोकथाम अधिनियम (यूएपीए) के तहत आरोप लगाए गए थे. कोर्ट ने नाईक को जून 2017 में वांटेड अपराधी घोषित किया था. इसके बाद राष्ट्रीय जांच एजेंसी NIA ने शहर में स्थित नाईक के दो फ्लैट और एक कॉमर्शियल प्रतिष्ठान कुर्क कर लिए थे.

मझगांव इलाके में नाईक की चार संपत्ति कुर्क करने की इजाजत मांगने वाली केंद्रीय एजेंसी की अर्जी विशेष अदालत ने गुरुवार को स्वीकार कर ली.

दरअसल, NIA ने दलील दी कि केंद्रीय एजेंसी द्वारा उसके खिलाफ मामला दर्ज करने के बाद विभिन्न स्रोतों से उसे फंड मिलना बंद हो गया था इसलिए नाईक विदेशों में रहते हुए यह संपत्ति को बेचने की कोशिश कर रहा है.

एनआईए की ओर से पेश हुए एडवोकेट आनंद सुखदेव ने अदालत से कहा कि नाईक कई देशों में नागरिकता हासिल करने की कोशिश कर रहा है और इस तरह वह मझगांव की संपत्ति बेच कर धन जुटाना चाहता है.

गौरतलब है कि नवंबर 2016 में केंद्र सरकार ने नाईक के मुंबई स्थित इस्लामिक रिसर्च फाउंडेशन को यूएपीए के तहत एक गैर कानूनी संगठन घोषित किया था. इसके तुरंत बाद एनआईए ने उनके खिलाफ एक मामला दर्ज किया था.

यह भी पढ़ें: कोर्ट ने विजय माल्या की बेंगलुरु स्थित प्रॉपर्टी को अटैच करने दिया आदेश

स्रोत: legendnews.in

श्रेणी पृष्ठ पर

Loading...