NewsHub के साथ गर्मागर्म विषयों पर ताज़ातरीन ख़बरों के अपडेट प्राप्त करें। अभी इन्स्टाल करें।

खोज परिणाम

1-10 से परिणाम 70 क्वेरी के लिए «पर य वरणव द»

१२ अक्‍तूबर, २०१८ ५:२० अपराह्न अयोध्या में राम मंदिर निर्माण 2019 से पहले हो जाना चाहिए: शिवसेना

नई दिल्ली. शिवसेना के राज्यसभा सासंद संजय राउत ने कहा कि अयोध्या में राम मंदिर निर्माण को लेकर सरकार पर हमला बोला है. उन्होंने कहा कि राम मंदिर को लेकर जिसे बोलना चाहिए वो मौन धारण किए हुए हैं. उन्होंने कहा कि मैं अयोध्या से लौटा हूं वहां की स्थिति को देखकर मेरा मन व्यथित हो उठा है. राउत ने कहा कि मंदिर निर्माण का कार्य 2019 से पहले खत्म हो जाना चाहिए 19

१२ अक्‍तूबर, २०१८ ६:५२ पूर्वाह्न प्रोफेसर जीडी अग्रवाल की लड़ाई को हम आगे ले जाएंगे- राहुल गांधी

नई दिल्ली। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने गंगा की सफाई और संरक्षण के लिए लंबे समय तक संघर्ष करने वाले पर्यावरणविद जीडी अग्रवाल के निधन पर दुख जताया. उन्होंने कहा, ‘हिंदुस्तान को गंगा जैसी नदियों ने बनाया है. गंगा को बचाना वास्तव में देश को बचाना है. हम उनको कभी नहीं भूलेंगे. हम उनकी लड़ाई को आगे ले जाएँगे.’ लंबे समय से गंगा की स्वच्छता और संरक्षण की मांग कर रहे पर्यावरणविद 13

२७ जून, २०१८ २:२७ अपराह्न एसी को 24 डिग्री सेल्सियस के तापमान पर सेट करने का मतलब

‘गर्मी बहुत है यार, एसी चला दे 18 पर!’ मई-जून की चिलचिलाती गर्मी हो या फिर बारिश के बाद जुलाई-अगस्त की उमस, दिल्ली समेत उत्तर भारत में एयरकंडिशनर के बिना अब काम नहीं चलता. एक ज़माना था जब किसी के घर एसी लगने पर उसके रईस होने की चर्चा शुरू हो जाती थी, लेकिन अब खिड़कियों के बाहर टंगे एसी आम बात है. फिलहाल, इन दिनों एसी एसी दूसरी वजहों से चर्चा में हैं. ख़बरें उड़ी कि एसी को अब 24 डिग्री सेल्सियस तापमान 4

२१ जून, २०१८ १२:५७ अपराह्न इंजीनियर साहब! बताइये शिवलिंग तोड़ रहा कांके डैम साइड की पक्की सड़क या आपके ‘पाप’ से फट रही है धरती

Ranchi : घटना पांच दिन पहले की है, यानी 17 जून की. शहर के कांके डैम साइड की एक नयी-नवेली पक्की सड़क के बीचोंबीच दरार पड़ जाती है. या यूं कहें कि एकदम बीच से फट जाती है. इतना ही नहीं, सड़क का प्रभावित हिस्सा जमीन छोड़कर दो फीट तक ऊपर उठ जाता है. स्थानीय लोगों का जमावड़ा लगने लगता है. कुछ यह सब देखकर सहम जाते हैं, तो कुछ कहने लगते हैं कि जमीन के अंदर से शिवलिंग 50

१६ जून, २०१८ ५:४८ पूर्वाह्न जल प्रबंधन नहीं होने से रांची शहर बना ड्राई जोन, निगम की योजनाएं घरातल पर नहीं

Ranchi : रांची शहर इन दिनों विकराल पानी संकट से जूझने को विवश है. अंधाधुंध विकास कार्यों को लेकर वैसे तो कई इलाकों में डीप बोरिंग द्वारा भूजल से पानी निकाला जा रहा है, लेकिन जल प्रबंधन की दिशा में विशेष उपाय नहीं होने से शहरवासी पानी की किल्लत झेल रहे हैं. नीति आयोग द्वारा जारी जल समेकित सूचकांक रिपोर्ट से भी स्पष्ट है कि जल प्रबंधन की दिशा में झारखंड 16

२९ मई, २०१८ ६:३१ अपराह्न वेदांता की तूतीकोरिन प्लांट यानी ठेंगे पर कानून और संविधान

स्टरलाइट कॉपर के खिलाफ विरोध कर रहे 13 लोगों की मौत से जुड़े कई सवाल अनुत्तरित हैं. 22 मई को तमिलनाडु के थूतुकुडी यानी तूतीकोरिन में पुलिस की गोलियों से 13 लोगों की जान गई. ये लोग उन हजारों लोगों में शामिल थे जो वेदांता समूह के स्टरलाइट कॉपर प्लांट के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे थे. पुलिस ने यहां भीड़ी नियंत्रण के लिए तय मानकों का इस्तेमाल नहीं किया और टेलीविजन 5

१८ मई, २०१८ ४:५७ पूर्वाह्न गायब हो रही हैं रांची शहर से छोटी-छोटी नदियां, नहीं सुधरें तो इतिहास बन जायेंगे हम

Ranchi: उपग्रह की तस्वीरें रांची के करमटोली तालाब के पास से निकली एक छोटी सी नदी की कहानी कहती है. अगर लोगों की माने तो शायद ये करम नदी है. ये नदी तालाब के पास खेतों से निकल के बहती हुई डिस्टलरी तालाब को पार करके निकल जाती थी. 2004 में इसका बहाव स्पस्ट दिखाई दे रहा है. लेकिन 2017 में इसके बहाव में कई जगह अतिक्रमण हो गया है. रहा सहा कसर डिस्टलरी तालाब 11

१५ मई, २०१८ ८:१४ पूर्वाह्न बिकते जंगल की परवाह देश में आखिर क्यों नहीं करता है कोई

सरकार भारत के जंगल की परवाह कम करती है और इन पर आधारित उद्योगों की ज्यादा. भारत सरकार सिर्फ ऐतिहासिक धरोहरों को कॉरपोरेट जगत के हवाले नहीं करना चाहती. सरकार चाहती है कि जंगल के तौर पर वर्गीकृत क्षेत्रों को भी उन्हें दे दिया जाए क्योंकि वे पर्याप्त ‘उत्पादक’ नहीं हैं. लाल किला जैसे ऐतिहासिक धरोहरों को कॉरपोरेट जगत को देने पर सोशल मीडिया में काफी चर्चा हुई लेकिन 7

२६ मार्च, २०१८ ८:०८ पूर्वाह्न ‘चिपको आंदोलन’ की 45वीं वर्षगांठ, गूगल ने डूडल बनाकर दिलाई इसकी याद

New Delhi : ‘चिपको आंदोलन’ की 45वीं वर्षगांठ पर सर्च इंजन गूगल ने डूडल बना लोगों को इस महत्वपूर्ण आंदोलन की एक बार फिर याद दिलाई और आज के दौर में इसकी प्रासंगिकता को रेखांकित किया. ग्लोबल वॉर्मिंग, जलवायु परिवर्तन जैसी कई समस्याओं के कारण आज भी न केवल इस आंदोलन की प्रासंगिकता कायम है बल्कि इसका महत्व पहले से कई अधिक बढ़ गया है. ऐसे में गूगल का यह डूडल हमें पर्यावरण 63

४ दिसंबर, २०१७ ११:०२ पूर्वाह्न चीन के दो बैंकों ने ऑस्ट्रेलिया में अडाणी की खनन परियाजना को कर्ज देने से मना किया

News Wing Melbourne(Australia), 04 December: ऊर्जा क्षेत्र के भारतीय कारोबारी अडाणी की ऑस्ट्रेलिया में विवादों में घिरी कारमाइकल कोयला खनन परियोजना की राह में एक बार फिर अड़चन पैदा हो गयी है. मीडिया खबरों के मुताबिक चीन के दो सरकारी बैंकों ने कहा है कि उद्यम को वित्तीय मदद मुहैया कराने की उसकी कोई योजना नहीं है. कारमाइकल कोयला खनन परियोजना पर संघीय और क्वींसलैंड 33